scorecardresearch

अगर कानून बचा ही नहीं है तो बता दें, हमारा अंजाम क्या है ये भी बता दें- आजम पर एक और केस दर्ज होने पर भड़के बेटे अब्दुल्ला

Uttar Pradesh News: एसपी अशोक कुमार शुक्ला से मिलने पर अब्दुल्ला आजम ने कहा कि इसमें कोई शक नहीं कि यह सब सत्ता के दबाव में हो रहा है।

अगर कानून बचा ही नहीं है तो बता दें, हमारा अंजाम क्या है ये भी बता दें- आजम पर एक और केस दर्ज होने पर भड़के बेटे अब्दुल्ला
आजम खान और उनके बेटे अब्दुल्ला आजम (फोटो सोर्स: twitter/@AbdullahAzamMLA)

Uttar Pradesh News: समाजवादी पार्टी के दिग्गज नेता आज़म खान (Azam Khan) पर उत्तर प्रदेश के रामपुर में एक और केस दर्ज किया गया है। एक गवाह को जान से मारने के आरोप में बुधवार (17 अगस्त) को FIR दर्ज की गई। जिसके बाद उनके बेटे अब्दुल्ला आजम ने कहा कि पिता जिंदगी मौत से लड़ रहे हैं। कह दें कि नहीं निकलने देना है आपको जेल में बर्बाद कर देना है। हमारा अंजाम क्या है यह भी बता दें।

पुलिस अधीक्षक अशोक कुमार ने भी पुष्टि करते हुए बताया कि आजम समेत पांच लोगों के खिलाफ एक मामले के गवाह को धमकाने के आरोप में मुकदमा दर्ज किया गया है। मामले की जांच की जा रही है। पुलिस को दी गई तहरीर के मुताबिक नन्हे नाम के व्यक्ति ने आरोप लगाया है।

तीन साल पहले पूरा तमाशा चला: आजम खान और उनके समर्थकों पर मुकदमा दर्ज होने के बाद आज़म के बेटे अब्दुल्ला आजम ने एसपी रामपुर अशोक कुमार शुक्ला से मुलाकात की। जिसके बाद मीडिया से मुखातिब होते हुए उन्होंने कहा कि तीन साल पहले पूरा तमाशा चला था। रामपुर में भैंस चोरी, बकरी चोरी और मुर्गी चोरी के तमाम मुकदमे आजम खान और मेरे पूरे परिवार पर कायम किए गए थे जिनका ट्रायल चल रहा है। उन्होंने कहा कि आज सुबह खबर आती है कि एक वादी ने यह एफआईआर कराई है कि आजम खान के साथ चार-पांच लोग आए और उन्होंने धमकी दी।

सब फैसला पुलिस कर दे: अब्दुल्ला आजम ने कहा कि जो आदमी 20 दिन से मेदांता हॉस्पिटल में जिंदगी और मौत की लड़ाई लड़ रहा हो। क्या ये मुमकिन है? अगर कानून बचा ही नहीं है तो बता दें कि कानून नहीं है। हमारा अंजाम क्या है यह भी बता दें। सब फैसला पुलिस ही कर दे या फैसला भैंस चोरी और बकरी चोरी के मुकदमे कराने वाले लोगों से ही करा दें।

अब्दुल्ला ने आगे कहा कि ज्यूडिशियल सिस्टम का कोई मतलब बचा ही नहीं है। पुलिस धमकाकर ले जा रही है, फिर क्या मतलब है मानवता और मानव का और उसके अधिकारों का। वैसे ही कह दें कि आपको जेल से नहीं निकलने देना है और पूरे परिवार को खत्म कर दें, क्या जरूरत है। गवाह के बारे में पूछने पर अब्दुल्ला ने कहा कि हम जानते तक नहीं, इसके पीछे वही लोग हो सकते हैं जिन्होंने तीन साल पहले ऐसी हरकतें की थीं और चुनाव में लोगों ने उनको जवाब दिया था।

पढें राज्य (Rajya News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.