ताज़ा खबर
 

दंगा शांत करा रहे थे अंकित शर्मा, ‘आप’ के निलंबित पार्षद ताहिर हुसैन के उकसाने पर भीड़ ने कर दी हत्या: चार्जशीट में दावा

Ankit Sharma murder in delhi riots: दिल्ली पुलिस ने कहा है कि अंकित शर्मा दोनों पक्षों के दंगाइयों को समझाने का प्रयास कर रहे थे, इस बीच भीड़ ने उन्हें पकड़कर मारना शुरू कर दिया। इसी दौरान उनकी मौत हो गई और दंगाइयों ने उनकी लाश को नाले में फेंक दिया।

Author , Translated By सूर्य प्रकाश नई दिल्ली | Updated: June 4, 2020 8:49 AM
ankit sharmaअंकित शर्मा की हत्या के मामले में दिल्ली पुलिस ने दाखिल की चार्जशीट

दंगाइयों को शांत कराने की कीमत इंटेलिजेंस ब्यूरो के अधिकारी अंकित शर्मा को अपनी जान गंवाकर चुकानी पड़ी। दिल्ली के दंगों को पर दाखिल चार्जशीट में दिल्ली पुलिस ने कहा है कि अंकित शर्मा दोनों पक्षों के दंगाइयों को समझाने का प्रयास कर रहे थे, इस बीच भीड़ ने उन्हें पकड़कर मारना शुरू कर दिया। इसी दौरान उनकी मौत हो गई और दंगाइयों ने उनकी लाश को नाले में फेंक दिया। चार्जशीट के मुताबिक निलंबित ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन के उकसाने पर ही भीड़ ने अंकित पर हमला बोला था। बुधवार को अदालत में दाखिल चार्जशीट में दिल्ली पुलिस ने कहा, ‘अंकित शर्मा के शरीर पर किसी धारदार हथियार के 51 निशान पाए गए थे। इससे पता चलता है कि किस तरह साजिश के तहत दंगाइयों ने अंकित शर्मा की थी।’

उत्तर-पूर्वी दिल्ली के खजूरीखास इलाके के रहने वाले अंकित शर्मा 25 फरवरी को लापता हो गए थे, जब शहर में भी दंगे छिड़े हुए थे। एक दिन बाद चांदबाग इलाके में नाले में उनकी लाश मिली थी। उनके पिता की शिकायत पर पुलिस ने 26 फरवरी को केस दर्ज किया था। दिल्ली पुलिस ने आम आदमी पार्टी से निलंबित पार्षद ताहिर हुसैन और 9 अन्य लोगों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की है। पुलिस ने अपनी चार्जशीट में ताहिर को हत्या का मुख्य साजिशकर्ता बताते हुए कहा कि उसने ही धार्मिक भावनाओं के आधार पर भीड़ को जुटाने का काम किया था। वह पहले से ही कई आरोपियों को जानता था और उन्हें मदद करते हुए हत्या में शामिल किया था। चार्जशीट में ताहिर समेत कुल 10 लोगों पर हत्या, आपराधिक साजिश समेत आईपीसी की कई धाराओं के तहत केस दर्ज किया गया है।

दिल्ली पुलिस की ओर से चार्जशीट दाखिल किए जाने के बाद मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट रिचा परिहार ने 16 जून को अगली सुनवाई की तारीख तय की है। दिल्ली पुलिस ने कहा कि उसने मौके पर मौजूद गवाहों के बयानों के आधार पर चार्जशीट दाखिल की है, जिनके मुताबिक ताहिर हुसैन 25 फरवरी को मौके पर मौजूद था। उसने चांद बाग पुलिया से अपने घर तक भीड़ का नेतृत्व किया था। इसी चांद बाग पुलिया के पास नाले से अंकित शर्मा का शव मिला था। चार्जशीट में पुलिस ने कहा, ‘प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि ताहिर हुसैन उस वक्त अपने घर पर ही मौजूद था, जहां से भीड़ हिंदू समुदाय के लोगों पर ईंट, पत्थर और पेट्रोल बम बरसा रही थी। गवाहों ने बताया कि ताहिर हुसैन भीड़ को हिंदुओं को निशाना बनाने के लिए उकसा रहा था।’ पुलिस ने मामले में 81 गवाहों की सूची भी पेश की है।

20 से 25 दंगाइयों ने किया था अंकित पर अटैक: प्रत्यक्षदर्शियों के बयानों के आधार पर पुलिस ने दावा किया कि शाम को करीब 5 बजे अंकित शर्मा हिंदुओं की भीड़ से निकले और ताहिर के घर के पास पहुंचकर दोनों पक्षों के लोगों को शांत कराने लगे। इसी दौरान 20 से 25 दंगाइयों ने उन पर पत्थर, रॉड, लाठी, डंडा, चाकू आदि से हमला कर दिया। ताहिर हुसैन के उकसावे पर चांद बाग पुलिया की ओर से आई भीड़ अंकित शर्मा पर वार करते हुए उन्हें पुलिया की ओर ही ले गई। उन्हें पीट-पीटकर मार डाला गया और क्षत-विक्षत शव को नाले में फेंक दिया गया।

लाश को नाले फेंकने का पुलिस के पास वीडियो: पुलिस ने इस पूरी घटना की कोई सीसीटीवी फुटेज होने से इनकार किया है। पुलिस ने कहा कि दंगाइयों ने इलाके में लगे सीसीटीवी कैमरों को तोड़ डाला था। लेकिन पुलिस ने यह जरूर कहा कि उसके पास एक वीडियो है, जिसमें तीन लोग लाश को नाले में फेंकते हुए दिख रहे हैं, हालांकि उन लोगों के चेहरे साफ तौर पर नहीं दिख रहे हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 बड़ी राहत! यूपी में वापस लौटे लाखों मजदूरों में से सिर्फ 3 पर्सेंट ही मिले कोरोना पॉजिटिव