ताज़ा खबर
 

यूएस में बैठे पति ने व्हॉट्सऐप पर “तलाक” वाली डीपी लगाकर बीवी को छोड़ा, ससुराल वालों ने घर से निकाला

लड़की के घरवालों का कहना है कि उस शख्स के बड़े भाई ने भी अपनी पत्नी को इसी तरह से तलाक दिया है और यह गंभीर चिंता की बात है कि लोग तलाक का गलत इस्तेमाल कर रहे हैं।

Author हैदराबाद | March 4, 2017 5:44 PM
अमेरिका में बैठे पति ने व्हॉट्सऐप की डीपी लगाकर पत्नी को दिया तलाक। (Representative Image)

ट्रिपल तलाक को लेकर जारी विवाद के बीच हैदराबाद में तलाक का एक और मामला सामने आया है। अमेरिका में रहने वाले शख्स ने अपनी पत्नी को व्हॉट्सऐप पर तीन बार तलाक लिखी डीपी (डिस्प्ले फिक्चर) लगाकर तलाक दे दिया। लड़की के घरवालों का कहना है कि उस शख्स के बड़े भाई ने भी अपनी पत्नी को इसी तरह से तलाक दिया है और यह गंभीर चिंता की बात है कि लोग तलाक का गलत इस्तेमाल कर रहे हैं। उसकी मां ने कहा कि उन लोगों ने हमे नोटिस भेजा और अपनी व्हॉट्सऐप पर तलाक वाली डीपी लगाई।

पीड़िता ने कहा कि उसे मोहम्मद अब्दुल अकील ने धोखा दिया। वह शादी करके अमेरिका चला गया और उसने घर में खुश रखने की बात कही। बजाए खुश रखने के उसके घरवालों ने मुझे अपनी घर की बड़ी बहू (जीठानी) के साथ नौकरानी बनाकर रखा। उसने आगे बताया कि इसके कुछ दिन बाद उसके पति ने व्हॉट्सऐप पर मैसेज किया और लिखा- “तलाक, तलाक, तलाक”। मैसेज मिलने के बाद मैंने इस बात की जानकारी अपने घरवालों को दी। उसके बाद मेरे सुसरालवालों ने मुझे यह कर निकाल दिया कि मुझे इस घर में रहने का हक नहीं है।

डेक्कन क्रॉनिकल की रिपोर्ट के मुताबिक पीड़िता की मां ने कहा कि इस तरह से किसी भी पुरुष के द्वारा महिला को तलाक नहीं दिया जा सकता। तलाक का आदेश देने के लिए पति को पत्नी के सामने आकर खुद से इन शब्दों (तलाक, तलाक, तलाक) को कहना होता है। उन्होंने कहा कि इसके साथ ही तलाक के हर कथन के बीच 40 दिनों का अंतराल होना चाहिए। ऐसे में कैसे पति के पिता तलाक के लिए कह सकते हैं और लड़की को घर भेज सकते हैं। इस दौरान पुलिस ने बताया कि लड़के के पैरेंट्स को गिरफ्तार कर लिया गया है और उनके खिलाफ आईपीसी की धारा 307 (हत्या का प्रयास) और धारा 354 (शील भंग) के तहत मामला दर्ज किया है।

गौरतलब है कि ट्रिपल तलाक को लेकर जारी बहस के बीच केंद्र सरकार यूनिफॉर्म सिविल कोड लागू करने की बात कह चुकी है। हालांकि कई मुस्लिम संगठन इसका विरोध कर रहे हैं। इस बीच तीन तलाक के कारण प्रभावित होने वाली महिलाएं भी अपना दर्द बयां करती रही हैं।

 

वीडियो: "जामिया के सेमिनार में ट्रिपल तलाक के मुद्दे पर बोलने नहीं दिया गया"

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App