ताज़ा खबर
 

रोज आती थी ब्‍लैंक कॉल्‍स, पिता ने गुस्‍से में 15 साल की बेटी को इतना पीटा कि हो गई मौत

35 साल के अल्लुरी वेंकट रमन नाम के रिक्शा चालक को पिछले कई दिनों से ब्लैंक कॉल्स आ रहे थे, अल्लुरी जब भी फोन उठाता उसे कोई जवाब नहीं मिलता।

बीकॉम की छात्रा हिंदूवादी संगठनों के कार्यकर्ताओं के उत्‍पीड़न से परेशान थी। (प्रतीकात्मक तस्वीर)

आंध्र प्रदेश से एक बेहद ही चौंका देने वाली घटना सामने आई है। यहां एक शख्स ने ब्लैंक कॉल्स से परेशान होकर गुस्से में अपनी 15 साल की बेटी को इतनी बेरहमी से पीटा कि उसकी मौत हो गई। दरअसल 35 साल के अल्लुरी वेंकट रमन नाम के रिक्शा चालक को पिछले कई दिनों से ब्लैंक कॉल्स आ रहे थे, अल्लुरी जब भी फोन उठाता उसे कोई जवाब नहीं मिलता। उसे लगा कि ये सभी कॉल्स उसकी बेटी के लिए आ रहे हैं। इस बात को लेकर और फोन करने वाले की पहचान करने के उद्देश्य से उसने कई बार अपनी 15 साल की बेटी से सवाल किया और शुक्रवार को उसे इतना गुस्सा आया कि उसने अपनी बेटी की मरते दम तक पिटाई कर दी।

टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक 15 साल की कृष्णावेनी दसवीं कक्षा में पढ़ती थी। उसके पिता ने जब उससे ब्लैंक कॉल्स को लेकर सवाल किया तब उसने हर बार यही जवाब दिया कि इसके पीछे कौन है वह नहीं जानती। शुक्रवार की रात अल्लुरी को एक बार फिर ब्लैंक कॉल आया। उस वक्त वह नशे में चूर था कि उसने अपनी बेटी को इतनी बेरहमी से पीटा की मौके पर ही उसकी मौत हो गई। हालांकि कृष्णावेनी की मौत की खबर शनिवार की रात को सामने आई, जब उसके परिवार वाले बिना पुलिस को सूचना दिए उसका अंतिम संस्कार करने की तैयारियां कर रहे थे।

यह घटना आंध्र प्रदेश के विजयवाड़ा के पयाकपुरम क्षेत्र की है। रिपोर्ट्स के मुताबिक जब लोगों ने देखा कि कृष्णावेनी के परिवार वाले बिना किसी को सूचना दिए उसका अंतिम संस्कार कर रहे हैं तब पुलिस को इस बात की सूचना दी गई। पुलिस ने मौके पर पहुंच कर अंतिम संस्कार की प्रक्रिया रुकवा दी और नाबालिग के शव को पोस्ट मार्टम के लिए विजयवाड़ा सरकारी जनरल अस्पताल भेज दिया। इसके अलावा पुलिस ने सीआरपीसी के सेक्शन 174 के तहत केस भी दर्ज कर लिया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App