ताज़ा खबर
 

नौ साल की बच्ची से रेप, पेड़ से झूलती मिली आरोपी की लाश: आंध्र प्रदेश में राजनीतिक बवंडर

अब इस पूरे मामले ने राजनीतिक रंग भी ले लिया है। वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष वाईएस जगनमोहन रेड्डी ने आशंका जाहिर की है कि सुभई तेलुगु देशम पार्टी का कार्यकर्ता था। इतना ही नहीं उन्होंने इस मौत के लिए राज्य के मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू को जिम्मेदार ठहरा दिया है।

तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (फोटोः Pixabay)

नौ साल की एक मासूम बच्ची से दुष्कर्म के आरोपी एक शख्स ने आत्महत्या कर ली है। मामला आंध्र प्रदेश के गुंटूर जिले के डाचेपल्ली का है। दुष्कर्म के आरोपी अन्नाम सुभई का शव खेत में एक पेड़ से लटका मिला है। इस मामले में गुंटूर पुलिस का कहना है कि मामले की जांच की जा रही है। पुलिस का दावा है कि आत्मघाती कदम उठाने से पहले सुभई ने अपने किसी रिश्तेदार को फोन कर यह बतलाया था कि उसने एक अपराध किया है जिसके लिए वो शर्मिंदा है। पुलिस के मुताबिक 60 साल के सुभई ने अपने रिश्तेदार से कहा कि ‘मेरे जघन्य अपराध की सजा मेरा बेटा भुगत रहा है। जो मुझे बिल्कुल पसंद नहीं है। अब तुम मेरा मरा हुआ शरीर ही देखोगे’।

इधर अब इस पूरे मामले ने राजनीतिक रंग भी ले लिया है। वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष वाईएस जगनमोहन रेड्डी ने आशंका जाहिर की है कि सुभई तेलुगु देशम पार्टी का कार्यकर्ता था। इतना ही नहीं उन्होंने इस मौत के लिए राज्य के मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू को जिम्मेदार ठहरा दिया है। वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के विधायक आरके रोजा गुंटूर स्थित उस अस्पताल में भी गए जहां दुष्कर्म पीड़ित बच्ची का इलाज चल रहा है। यहां उन्होंने कहा कि सरकार राज्य में बच्चियों को सुरक्षा प्रदान कर पाने में नाकाम है।

इधर जन सेना पार्टी प्रमुख पवन कल्याण ने भी इस मामले पर कहा है कि गुंटूर के सांसद गला जयदेव उस वक्त क्या कर रहे थे जब उनके जिले में दुष्कर्म हो रहा था। आपको बता दें कि इस मामले में डाचेपल्ली में लोगों ने सड़कों पर उतरकर प्रदर्शन भी किया था। बीते दिनों लोगों ने इस घटना के विरोध में स्टेट हाईवे जाम कर दिया था। बीते गुरुवार को प्रदर्शनकारी सुभई के घर के बाहर भी जमा हो गए थे और उसकी तत्काल गिरफ्तारी और फांसी की मांग कर रहे थे। बाद में पुलिस ने आरोपी शख्स के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई करने की बात कह कर किसी तरह प्रदर्शनकारियों को वहां से हटाया था। यहां आपको याद दिला दें कि हाल ही में केंद्रीय कैबिनेट ने 12 साल से कम उम्र की बच्चियों के साथ दुष्कर्म करने वाले अपराधियों को सजा-ए-मौत देने संबंधी एक अध्यादेश जारी किया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App