ताज़ा खबर
 

लड़की का नाम ‘इंदु’ मगर आधार कार्ड में लिख दिया ‘हिंदू’, गलती सुधारने को बोला तो फिर लिख दिया HINDU

आधार की इस गलती के कारण स्कूल द्वारा इंदू का बैंक अकाउंट भी नहीं खुल पाया है क्योंकि आधार और बैंक अकाउंट के लिए आवेदन पर नाम एक जैसा होना चाहिए। इंदू के अलावा अन्य छात्र भी इसी परेशानी से गुजर रहे हैं।

Author विशाखापत्तनम | January 25, 2018 5:15 PM

आंध्र प्रदेश के अनंतपुर जिले में आधार कार्ड की गड़बड़ी का मामला सामने आया है जिसके कारण कुछ बच्चे अब उन्हें मिलने वाली स्कॉलरशिप नहीं प्राप्त कर पाएंगे। रूरल इंडिया संगठन के अनुसार, दस वर्षीय दलित लड़की जे. इंदु और चार अन्य छात्र जो कि अमडगुर के सरकारी प्राथमिक विद्यालय में पांचवी कक्षा में पढ़ते हैं, आधार कार्ड में छपी एक गलती के कारण इस साल स्कॉलरशिप नहीं ले पाएंगे। इंदु के अलावा, इन छात्रों में एक मुस्लिम है तो एक बहुत ही गरीब परिवार से ताल्लुक रखता है। इंदु का जब पहला आधार कार्ड बनकर आया तो उसमें उसके नाम की जगह हिंदू लिखा हुआ था।

इसके बाद इंदू ने फिर से आधार के लिए आवेदन दिया और जब दूसरा आधार कार्ड बनकर आया तो उसमें फिर से वही गलती दोहराई गई थी। इंदू की जगह उसका नाम हिंदू लिखा हुआ था। आधार की इस गलती के कारण स्कूल द्वारा इंदू का बैंक अकाउंट भी नहीं खुल पाया है। आधार और बैंक अकाउंट के लिए दिए जाने वाले आवेदन पर नाम एक जैसा होना चाहिए लेकिन इंदू के आधार में उसका नाम गलत लिखा हुआ था। इंदू के अलावा अन्य छात्र भी इसी परेशानी से गुजर रहे हैं। उन्होंने भी अपने पहले आधार कार्ड की गलती सुधारने के लिए दूसरा आवेदन दिया लेकिन फिर से वहीं गलती कार्ड में छपकर आई।

आपको बता दें कि राज्य में पांचवीं कक्षा के बाद एससी, एसटी और पिछड़े वर्ग से आने वाले छात्रों को सरकार की तरफ से हर साल 1,200 रूपए की स्कॉलरशिप दी जाती है। अमडगुर के इस सरकारी स्कूल में पांचवी कक्षा में कुल 23 छात्र हैं। इनमें से केवल एक छात्र उच्च जाति से है और इंदू समेत बाकी छात्र आरक्षित वर्ग में आते हैं। कक्षा के बाकी छात्रों का स्कॉलरशिप का पैसा उनके बैंक अकाउंट में फरवरी तक आ जाएगा लेकिन इंदू व अन्य तीन छात्र इस स्कॉलरशिप से वंचित रह जाएंगे। इस स्कूल में पढ़ने वाले छात्रों के माता-पिता ज्यादातर या तो सीमांत किसान हैं या वे कृषि मजदूर हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App