ताज़ा खबर
 

आंध्र प्रदेश: सीएम वाईएस जगन मोहन रेड्डी की बहन बनाएंगी नई पार्टी?, KCR बोले- इतना आसान नहीं

सोमवार से सोशल मीडिया पर वाई एस शर्मिला का एक पोस्टर भी काफी वायरल हो रहा है। इस पोस्टर में शर्मिला के अलावा उनके पिता स्वर्गीय वाई एस राजशेखर रेड्डी भी नजर आ रहे हैं।

andhra pradesh, telanganaआंध्र प्रदेश के सीएम अपनी बहन के साथ। फोटो सोर्स – फेसबुक, @ys sahrmila

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री Y S Jagan Mohan Reddy की बहन Y S Sharmila अपनी नई क्षेत्रीय पार्टी का जल्द ऐलान  कर सकती हैं। YSRC के एक वरिष्ठ नेता ने इस बात की पुष्टि की है कि वाई एस शर्मिला ने मंगलवार को अपने 30-35 भरोसेमंद लोगों के साथ अपने आवास पर एक बैठक बुलाई है। यह बैठक हैदराबाद के लोटस पॉन्ड में स्थित उनके आवास पर बुलाई गई है और इसमें नई पार्टी की रूपरेखा को लेकर चर्चा होगी।

The Yuvajana Sramika Rythu Congress Party के नेता का कहना है कि वाई एस शर्मिला नई पार्टी के गठन को लेकर दिलचस्पी ले रही है। हो सकता है कि इस बैठक में वो इस पर अपनी राय रखें। हमें उम्मीद है कि बैठक के बाद यह साफ हो जाएगा कि क्या वो एक नई पार्टी बनाना चाहती हैं या फिर उनकी रणनीति कुछ और है।

सोमवार से सोशल मीडिया पर वाई एस शर्मिला का एक पोस्टर भी काफी वायरल हो रहा है। इस पोस्टर में शर्मिला के अलावा उनके पिता स्वर्गीय वाई एस राजशेखर रेड्डी भी नजर आ रहे हैं। यह भी कहा जा रहा है कि यह पोस्टर उनके आवास पर भी लगाए जाएंगे। इस पोस्टर पर स्लोगन भी लिखे गये हैं। इसमें लिखा हुआ है कि ‘वाईएसआर के कल्याणकारी कार्य सिर्फ शर्मिला के साथ ही संभव हैं।’ इसमें शर्मिला की मां विजयलक्ष्मी की तस्वीर भी नजर आ रही है।

इस पोस्टर के वायरल होने के बाद यह कहा जा रहा है कि शर्मिला तेलंगाना में अपनी नई पार्टी को लॉन्च करने पर काम कर रही है। हालांकि अभी इसे लेकर आंध्र प्रदेश की सीएम की बहन की तरफ से कुछ भी नहीं कहा गया है।

बहरहाल इस मुद्दे पर तेलंगाना के मुख्यमंत्री K Chandrasekhar Rao ने कहा है वाई एस शर्मिला का नाम लिये बिना कहा कि ‘इस बात की राज्य में काफी चर्चा हो रही है कि नई क्षेत्रीय पार्टी का गठन किया जाएगा। लेकिन आज के दौर में एक राजनीतिक पार्टी को चलाना इतना आसान नहीं है। नई पार्टी को लॉन्च करने में बड़ी तनाव झेलना पड़ता है। हमने तेलंगाना में पहले कुछ क्षेत्रीय पार्टियों को लॉन्च होते हुए देखा है। लेकिन यह सभी धूल में मिल गए। टीआरएस ही एक ऐसी पार्टी है जो टीडीपी के बाद टिक सकी।

 

Next Stories
1 बिहार: पत्रकारों की थाने में एंट्री बैन, शराब पीने की खबर दिखाई तो नाराज एसपी ने उठाया कदम
2 रिहाना केसः सचिन-कोहली समेत भारतीय शख्सियतों के ट्वीट्स की जांच कराएगी महाराष्ट्र सरकार
3 जेल में बंद मुख्तार अंसारी से घबराए कांग्रेसी अजय राय, CM योगी को खत लिख बोले- मेरी जान खतरे में, दें सुरक्षा
आज का राशिफल
X