ताज़ा खबर
 

नायडू बने महागठबंधन की कवायद के सूत्रधार

कांग्रेस अध्यक्ष से मुलाकात के बाद नायडू ने कहा कि हम दोनों के बीच लोकतंत्र बचाने को लेकर चर्चा हुई है। उन्होंने कहा कि भाजपा को हराने के लिए हमलोग एक साथ आए हैं।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू पत्रकारों से बात करते हुए।

अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव से पहले विपक्षी दलों के महागठबंधन को शक्ल देने की कवायद तेज हो गई है। विपक्षी दलों को साझा मंच पर खड़ा करने के लिए सूत्रधार की भूमिका निभा रहे तेलगू देशम पार्टी (टीडीपी) नेता और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने गुरुवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की। कांग्रेस अध्यक्ष से मुलाकात के बाद नायडू ने कहा कि हम दोनों के बीच लोकतंत्र बचाने को लेकर चर्चा हुई है। उन्होंने कहा कि भाजपा को हराने के लिए हमलोग एक साथ आए हैं। उन्होंने कहा कि हम बाकी दलों से भी यह अपील करते हैं कि भाजपा को शिकस्त देने के लिए वे साथ आएं। नायडू ने कहा कि आरबीआइ, सीबीआइ, इनकम टैक्स, यहां तक कि सुप्रीम कोर्ट और राज्यपाल भी आजादी से काम नहीं कर पा रहे हैं। हमारा उद्देश्य ‘सेव नेशन, सेव डेमोक्रेसी’ है। उन्होंने कहा कि हमलोग साथ मिलकर काम करेंगे। देश को बचाने के लिए हमें पुरानी बातों को भूलना होगा। उन्होंने कहा कि हमारा साथ आना लोकतंत्र के लिए जरूरी है।

दूसरी ओर राहुल ने कहा कि जिस तरह भाजपा भ्रष्टाचार के साथ संवैधानिक संस्थाओं को खत्म करने में लगी है, ऐसे में भाजपा को रोकना बेहद जरूरी है। उन्होंने दावा किया कि इस लड़ाई में हमें निश्चित रूप से कामयाबी मिलेगी। नायडू से अपनी मुलाकात को लेकर राहुल ने कहा कि हमारी बातचीत काफी अच्छी रही। उन्होंने बताया कि हमारी मुलाकात का असली मुकसद यह है कि हमें लोकतंत्र और देश के भविष्य को बचाना है। इसलिए हम लोग मिलकर साथ काम करेंगे। सभी विपक्षी ताकतों को मिलकर काम करना होगा।

विपक्षी दलों की ओर से पीएम उम्मीदवार को लेकर पूछ गए सवाल को टालते हुए राहुल गांधी ने कहा, आपका ध्यान सेंसेशन पर है और हमारा ध्यान नेशन पर है। आप भी कुछ समय के लिए नेशन फर्स्ट सोचें।’ उन्होंने इस मौके पर रफाल विमान सौदे को लेकर भी आरोप लगाए। उन्होंने कहा कि साफ है कि इसमें भ्रष्टाचार हुआ है। अगर जांच होती है तो साफ हो जाएगा कि इसमें किसका हाथ था। उन्होंने कहा कि हमलोग भ्रष्टाचार, रोजगार, किसान, रफाल विमान सौदे में हुई धांधली और संवैधानिक संस्थाओं को खत्म करने के मुद्दे को लेकर चुनाव में उतरेंगे। उन्होंने कहा कि नायडू अगले लोकसभा चुनाव में भाजपा के खिलाफ विपक्षी दलों को एकजुट करने की कोशिश कर रहे हैं। हम एक साझे मंच पर मिलेंगे और रणनीतियां तय करेंगे।

इससे पहले नायडू ने राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (रांकपा) अध्यक्ष शरद पवार और नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता फारूक अब्दुल्ला के साथ भी बैठक की। राकांपा प्रमुख पवार ने कहा कि गैर-भाजपा दल सरकार का मुकाबला करने के लिए एक न्यूनतम साझा कार्यक्रम लाएंगे। उन्होंने सीबीआइ और आरबीआइ जैसे संस्थानों पर हमले को लेकर चिंता जताई। उन्होंने कहा कि आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री नायडू पहल करेंगे और कांग्रेस समेत गैर-भाजपा दलों से बातचीत करेंगे। पवार ने कहा कि योजना तैयार करने के लिए राष्ट्रीय राजधानी में एक बैठक होगी।

राकांपा प्रमुख ने कहा कि यदि हम सामूहिक रूप से लोकतंत्र को बचाने के लिए काम करते हैं, तो हम निश्चित रूप से संस्थानों को बचा सकते हैं। उन्होंने कहा कि नायडू इस संबंध में अन्य राजनीतिक नेताओं से भी बात करेंगे। उन्होंने कहा कि देश और लोकतंत्र को बचाने के लिए काम किए जाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि नायडू का सुझाव है कि सभी गैर-भाजपा दलों की बैठक होनी चाहिए और देश में मौजूदा स्थिति पर चर्चा की जानी चाहिए। वहीं, अब्दुल्ला ने दावा किया कि आज लोकतंत्र और लोग खतरे में हैं। यही कारण है कि हम सभी ने लोकतंत्र, संस्थानों और देश को बचाने के लिए एक न्यूनतम साझा कार्यक्रम तैयार करने का निर्णय लिया।

नायडू अगले लोकसभा चुनाव में भाजपा के खिलाफ विपक्षी दलों को एकजुट करने की कोशिश कर रहे हैं। हम एक साझे मंच पर मिलेंगे और रणनीतियां तय करेंगे। – राहुल गांधी
नायडू पहल करेंगे और कांग्रेस समेत गैर-भाजपा दलों से बातचीत करेंगे। योजना तैयार करने के लिए राष्ट्रीय राजधानी में एक बैठक होगी।-शरद पवार
आज लोकतंत्र और लोग खतरे में हैं। यही कारण है कि हम सभी ने लोकतंत्र, संस्थानों और देश को बचाने के लिए एक न्यूनतम साझा कार्यक्रम तैयार करने का निर्णय लिया। – फारुक अब्दुल्ला

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App