X

आंध्र प्रदेश: इंस्‍पेक्‍टर ने सांसदों और विधायकों को धमकाया- पुलिस फोर्स का मनोबल गिराने की बात की तो जुबान काट देंगे

इंस्पेक्टर ने कहा कि सभी पार्टियों के सांसद, विधायक, पूर्व सांसद और पूर्व विधायक पुलिस के खिलाफ बात कर रहे हैं, जिससे हमारे मनोबल को नुकसान पहुंच रहा है।

आंध्र प्रदेश में एक पुलिस निरीक्षक ने सत्तारूढ़ टीडीपी के सांसद पर निशाना साधते हुए धमकी दी कि अगर निर्वाचित प्रतिनिधि पुलिस बल का मनोबल गिराने की बात करेंगे तो उनकी जुबान काट दी जाएगी। सांसद ने इस बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए पुलिसकर्मी को ललकारा और उसके खिलाफ एक शिकायत दर्ज कराई। अनंतपुरम जिले में कादिरी के निरीक्षक माधव ने शुक्रवार को संवाददाता सम्मेलन में चेतावनी देते हुए कहा था, ‘‘हमने अभी तक संयम बरता है। भविष्य में अगर कोई हद से बाहर जाकर पुलिस के खिलाफ बात करता है तो हम बर्दाश्त नहीं करेंगे। हम उनकी जुबान काट लेंगे। वे सावधान रहें।’’ उन्होंने कहा कि राजनीतिक नेताओं द्वारा की जा रही टिप्पणियों के कारण पुलिसकर्मी अपनी पत्नियों और बच्चों को भी अपना चेहरा नहीं दिखा पा रहे थे। सभी पार्टियों के सांसद, विधायक, पूर्व सांसद और पूर्व विधायक पुलिस के खिलाफ बात कर रहे हैं, जिससे हमारे मनोबल को नुकसान पहुंच रहा है। इंस्पेक्टर ने कहा कि हम पुलिस बल में पुरुषों के रूप में आए हैं, नपुंसक की तरह नहीं।

इस पर तीखी प्रतिक्रिया देते हुए सांसद जे सी दिवाकर रेड्डी ने निरीक्षक को चुनौती दी। कहा कि, “वह अपनी जुबान कटवाने के लिए कहां आएं? क्या मुझे आपके घर आना चाहिए या पुलिस थाने या फिर वह गांव जहां आपका जन्म हुआ था या अनंतपुरम क्लॉक टॉवर सेंटर में आना चाहिए, जहां आप मुझे बुलाना चाहते हैं? अपनी खाकी वर्दी हटाएं और मैं भी सादे कपड़े में आऊंगा।” ताडिपत्री उपमंडल पुलिस अधिकारी विजय कुमार के अनुसार, बाद में सांसद ने निरीक्षक के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई लेकिन अभी तक कोई प्राथमिकी दर्ज नहीं हुई है। उन्होंने कहा, “यह आईपीसी (आपराधिक धमकी) की धारा 506 के तहत एक गैर-संज्ञेय अपराध है। हमने शिकायत जिला एसपी को सौंपी है और कानूनी राय भी मांगी है।”

इस पूरे मामले पर अतिरिक्त पुलिस निदेशक (कानून और व्यवस्था) हरीश कुमार गुप्ता और अनंतपुरमु जिला पुलिस अधीक्षक जी वी जी अशोक कुमार ने किसी तरह की प्रतिक्रिया नहीं दी। वहीं, एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि जनप्रतिनिधियों के खिलाफ इस तरह का बयान नहीं देना चाहिए, चो स्थिति कैसी भी हो। बता दें कि इस सप्ताह ताडिपत्री के पास एक गांव में एक झड़प की पृष्ठभूमि में ये बयान सामने आए हैं। रेड्डी ने पुलिस पर घटनास्थल से ‘नपुंसकों’ की तरह भाग जाने तथा स्थिति को नियंत्रण में न ला पाने का आरोप लगाया था।

  • Tags: Andhra Police, police,