ताज़ा खबर
 

एएमयू विवाद : एजी ने कहा कि शीर्ष न्यायालय में अपील वापस लेने में कुछ भी राजनीतिक नहीं

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय संसद के एक कानून द्वारा स्थापित किया गया था उस समय यह ब्रिटिश शासन के अधीन था। लिहाजा यह कहना सही नहीं है कि इसे मुस्लिमों ने स्थापित किया। ’’

Author नई दिल्ली | July 9, 2016 9:43 PM
रोहतगी ने कहा कि 1980 के दशक में एक संशोधन के जरिये एएमयू पर स्थिति को बदलने का प्रयास किया गया था।

एटार्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने कहा है कि अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय को अल्पसंख्यक संस्थान मानने से इंकार करने वाले इलाहाबाद उच्च न्यायालय के निर्णय को चुनौती देने वाली तत्कालीन संप्रग सरकार की अपील को वापस लेने के राजग सरकार के फैसले में कुछ भी राजनीतिक नहीं है। रोहतगी ने कहा, ‘‘मैं आपको यह बताना चाहता हूं कि इसमें कुछ भी राजनीतिक नहीं है। अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय उस समय संसद के एक कानून द्वारा स्थापित किया गया था जब भारत स्वतंत्र नहीं था। उस समय यह ब्रिटिश शासन के अधीन था। लिहाजा यह कहना सही नहीं है कि इसे मुस्लिमों ने स्थापित किया। ’’

उन्होंने यहां एक समाचार चैनल को बताया, ‘‘उच्चतम न्यायालय की पांच न्यायाधीशों की पीठ का :20 अक्तूबर 1967: का एक फैसला है कि एएमयू अल्पसंख्यक संस्थान नहीं है तथा वही कानूनी स्थिति कायम है।’’ देश के शीर्ष विधि अधिकारी इंडिया टुडे समाचार चैनल द्वारा उच्च न्यायालय के फैसले के खिलाफ अपील को वापस लेने के केन्द्र के कदम के बारे में पूछे गये एक सवाल का जवाब दे रहे थे। सरकार ने कुछ दिनों पहले उच्चतम न्यायालय को बताया था कि वह इस संबंध में तत्कालीन संप्रग सरकार द्वारा दायर की गयी अपील को वापस लेगी।  रोहतगी ने कहा कि 1980 के दशक में एक संशोधन के जरिये एएमयू पर स्थिति को बदलने का प्रयास किया गया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App