ताज़ा खबर
 

अमृतसर में सुनाई दीं तेज धमाकों जैसी आवाजें, पुलिस का बयान- ये IAF के सुपरसोनिक विमान

पाकिस्तान की सीमा से सटे अमृतसर में भारतीय वायुसेना के लड़ाकू विमानों ने अभ्यास किया। बताया जा रहा है कि इस दौरान कई जेट्स को एक साथ उड़ाया गया।

प्रतीकात्मक फोटो ( फोटो सोर्स : इंडियन एक्सप्रेस )

पंजाब के अमृतसर में उस वक्त लोग सकते में आ गए जब लोगों ने आसमान में धमाके जैसी आवाजें सुनीं। इसके बाद सोशल मीडिया पर हवाई हमले की अफवाहों का दौर शुरू हो गया। हालांकि कुछ ही देर में अमृतसर के एडीसीपी ने बयान जारी कर कहा कि लोगों से अपील करता हूं कि अफवाहों पर भरोसा न करें, सब कुछ ठीक है। अधिकारियों ने साफ किया कि यह पाकिस्तानी सीमा सीमा के पास उड़ने वाले भारतीय वायु सेना के लड़ाकू जेट की आवाज थी।

दरअसल, दो दिन पहले ही भारतीय वायुसेना के रडार ने पुंछ सेक्टर के पास दो पाकिस्तानी एयरफोर्स जेट्स को डिटेक्ट किया था। इसके बाद अमृतसर में जब लोगों ने फाइटर जेट्स की आवाज सुनी तो सकते में आ गए। इस दौरान सोशल मीडिया में लोगों के बीच युद्ध और ब्लास्ट जैसी अफवाहें शेयर होने लगी। जिसके बाद अधिकारियों ने एक बयान के जरिए बताया कि ये भारतीय वायुसेना के लड़ाकू विमान हैं। पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) परमपाल सिंह ने कहा, “भारतीय वायु सेना (IAF) ने कल रात एक अभ्यास किया, जिसके दौरान कई फाइटर जेट्स ने सुपरसोनिक गति से अमृतसर में भारत-पाकिस्तान सीमा के पास उड़ान भरी।” इस दौरान अमृतसर के पुलिस अधिकारियों ने लोगों से न घबराने की अपील करते हुए कहा कि उन्होंने पूरे शहर की जांच की है, घबराने वाली कोई बात नहीं है।

 

भारतीय वायुसेना ने किया ड्रिल: एएनआई के मुताबिक जम्मू से पंजाब तक पाकिस्तान से लगने वाली सीमा पर भारतीय वायुसेना के लड़ाकू विमानों के कॉम्बैट ड्रिल (COMBAT DRILL) करने की खबर है। बताया जा रहा है कि वायुसेना ने सुपरसोनिक रफ्तार से कई विमानों को एक साथ उड़ाया और अपनी तैयारियों की समीक्षा की।

बता दें कि अमृतसर, पाकिस्तान से लगी वाघा सीमा से करीब 28 किलोमीटर दूर है। भारतीय वायुसेना की बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद ये क्षेत्र हाईअलर्ट पर है। गौरतलब है कि एयर स्ट्राइक के बाद पाक के एफ-16 विमानों ने कश्मीर में घुसपैठ कर भारत के सैन्य ठिकानों को निशाने बनाने की कोशिश की थी लेकिन भारत ने जवाबी कार्रवाई में एफ-16 को मार गिराया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App