ताज़ा खबर
 

अमृतसर: ट्रेन के टॉयलेट में फंदा लगाकर नवजात को छोड़ गई मां, 12 घंटे बाद लोगों ने बचाई जान

बच्चे को सही सलामत टॉयलेट के पाइप से निकालने वाले शख्स का कहना है कि 'अगर इस बच्चे को कोई पालने वाला नहीं मिलता है तो मैं इस बच्चे की पूरी जिम्मेदारी उठाऊंगा।' बता दें, बच्चा 12 घंटे तक फ्लश में फंसा था।

प्रतीकात्मक फोटो

‘जाखो राखे साइयां मार सके न कोई’ ये कहावत हावड़ा-अमृतसर ट्रेन के टॉयलेट में मिले एक नवजात बच्चे पर सटीक बैठता है। बता दें, बच्चे को जन्म देने के बाद ट्रेन के टॉयलट में उसे लावारिस हालत में छोड़कर उसकी मां फरार हो गई थी। लेकिन 12 घंटे के बाद उस बच्चे को सफाईकर्मियों की मदद से सही सलामत निकालकर पास के अस्पताल में पहुंचाया गया। ये पूरी घटना शनिवार की है।

इस पूरे मामले की जांच पुलिस कर रही है। अभी तक बच्चे की मां का पता नहीं चल सका है। वहीं बच्चे को सही सलामत टॉयलेट के पाइप से निकालने वाले शख्स का कहना है कि ‘अगर इस बच्चे को कोई पालने वाला नहीं मिलता है तो मैं इस बच्चे की पूरी जिम्मेदारी उठाऊंगा।’ बता दें, बच्चा 12 घंटे तक फ्लश में फंसा था। जिसके कारण उसकी तबियत काफी खराब हो गई है। डॉक्टरों के मुताबिक नवजात बच्चा जल्द ही सामान्य हो जाएगा। पहली नजर में ऐसा लग रहा है कि बच्चे को जन्म देने के बाद उसे मारने की नीयत से टॉयलेट सीट में उसे छोड़ दिया गया था। लेकिन बच्चा नीचे नहीं गिरा।

बता दें, ये पहला ऐसा मौका नहीं है जब इस तरह की घटना सामने आई हो। इससे पहले भी कई बार इस तरह की घटना सामने आ चुकी है। इस मामले पर सफाई इंचार्ज गुरदेव सिंह का कहना है कि ‘बोगियों को जब मैं चेक करते हुए B-3 में पहुंचा तो वहां पर मैंने बच्चे को फ्लश में देखा जिसके बाद मैंने लोगों को बुलाया और बच्चे को तुरंत अस्पताल पहुंचाया।’

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 यूपी सीएम के कार्यक्रम में युवाओं का हंगामा, योगी पर फेंके गए रुमाल और तौलिये
2 उत्तराखंड : 4 दिन से सफदरजंग में भर्ती छात्रा की मौत, गुंडे ने पेट्रोल डालकर जिंदा जला दिया था
3 उपचुनाव नतीजे: गुजरात में बीजेपी की जीत, ट्रिपल डिजिट में पहुंचा आंकड़ा, झारखंड में कांग्रेस जीती