ताज़ा खबर
 

मौजूदा सभी पार्षदों का पत्ता साफ करने को लेकर उठे सवाल

आगामी निगम चुनावों में सभी मौजूदा पार्षदों की टिकट काटने के भाजपा आलाकमान के फैसले के बाद पार्टी में बड़े पैमाने पर बगावत होने की संभावना है।

Author नई दिल्ली | March 17, 2017 1:36 AM
भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह। (Source: Agencies)

आगामी निगम चुनावों में सभी मौजूदा पार्षदों की टिकट काटने के भाजपा आलाकमान के फैसले के बाद पार्टी में बड़े पैमाने पर बगावत होने की संभावना है। भाजपा आलाकमान के फैसले पर अमल हुआ तो प्रदेश के 153 पार्षदों का टिकट कट जाएगा। कई मौजूदा पार्षदों ने तो कांग्रेस, आम आदमी पार्टी और स्वराज अभियान में अपनी गोटी बिठानी शुरू कर दी है। कांग्रेस के कई नेताओं ने भाजपा के कई पार्षदों से संबंध बिठाने शुरू कर दिए हैं। हाल ही में हुए पांच राज्यों के चुनावों में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने जिस तरह से कांग्रेस के नेताओं को अपने पार्टी का टिकट दिया है, उसी तर्ज पर अन्य पार्टियां भी चलने को तैयार हो गई हैं।

राजधानी में तीनों नगर निगमों में भाजपा के 153 पार्षद हैं। इनमें से तो कई पार्षद ऐसे भी हैं, जो कई बार पार्षद का चुनाव लड़े और जीते हैं। पार्टी के इस फैसले से वे काफी आहत हैं। कई पार्षदों का कहना है कि पार्टी आलाकमान ने उन्हें टिकट न देने का फैसला करके एक तरह से उनके दामन पर भ्रष्ट होने का धब्बा लगा दिया है। भाजपा आलाकमान के सभी पार्षदों के टिकट काटने और फिर वहां से नए चेहरों को टिकट देने के फैसले के बाद पार्टी में टिकटों के लिए दावेदारों की पार्टी प्रदेश मुख्यालय और प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी की नॉर्थ एवेन्यू स्थित सरकारी कोठी पर कतारें लगनी शुरू हो गई हैं। भाजपा ने पार्षदों के टिकटों के लिए आम लोगों को आवेदन देने के लिए कहा है।

होली के बाद से 14 मार्च से लोगों में आवेदन देने वालों का प्रदेश भाजपा मुख्यालय पंत मार्ग पर तांता लगना शुरू हो गया है। यहां पर लोग सुबह आठ बजे से ही अपने आवेदन लेकर आ रहे हैं। आवेदन से पहले कई लोग भाजपा के संगठन मंत्री सिद्धार्थन से भी मिलने की कोशिश करते रहे। पार्टी कार्यालय में नजारा आवेदकों के मेले जैसा है। कई आवेदक तो वहीं बैठकर भाजपा का सदस्यता अभियान और आजीवन सदस्यता अभियान का फार्म भरते देखे जा सकता है। अब कई आवेदकों को पता लग रहा है कि टिकट के लिए आवेदन से पहले, उनके पास भाजपा की सदस्यता भी होनी चाहिए।

बीते तीन दिन में पार्टी के पास करीब 10 हजार आवेदन चुनावी टिकट के लिए आ गए हैं। इन आवेदनों को मनोज तिवारी के दफ्तर भेजा जा रहा है। यहां यह आवेदन वार्ड के अनुसार कंप्यूटर में संरक्षित किए जाएंगे। समय सिर्फ 80 फीसद की टिकट कटी थी और 20 फीसद को चुनावों में लड़ा दिया गया था।

19 से आगाज
भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह 19 मार्च को रामलीला मैदान में एक रैली करके आगामी नगर निगम चुनावों के प्रचार का शंखनाद करेंगे। वे रामलीला मैदान में भाजपा कार्यकर्ताओं को संबोधित करेंगे। भाजपा ने हर बूथ के बूथ प्रबंधक कार्यकर्ताओं को पंच परमेश्वर कहा है क्योंकि यह पांचों उस बूथ पर रहने वाले हजारों कार्यकर्ताओं को प्रशासनिक न्याय दिलाने के लिए भाजपा के पंचों की तरह काम करेंगे। ये जानकारी दिल्ली प्रदेश भाजपा की मासिक बैठक गुरुवार को प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी की अध्यक्षता में दी गई है। बैठक में दिल्ली भाजपा के राष्ट्रीय संगठन महामंत्री रामलाल, प्रभारी श्याम जाजू, केंद्रीय मंत्री डॉक्टर हर्ष वर्धन और विजय गोयल भी मौजूद थे। बैठक में चर्चा का मुख्य केंद्र निगम चुनाव और पार्टी की ओर से उसका प्रबंधन था। इसके अलावा रविवार को 19 मार्च को रामलीला मैदान में आयोजित होने वाली रैली के दौरान बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन की तैयारियां थीं। सभी जिलाध्यक्षों ने बैठक में अपने जिले एवं मोर्चों की योजना का ब्योरा रखा। बैठक को संबोधित करते हुए भाजपा के राष्ट्रीय संगठन महामंत्री रामलाल ने कहा कि उन्हें इस बात का पूरा भरोसा है कि उनके कार्यकर्ता पूरी तरह संघर्षरत हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App