ताज़ा खबर
 

जम्मू-कश्मीर के मंत्रियों और NSA अजित डोभाल से मीटिंग के बाद बीजेपी अध्यक्ष ने पीडीपी से वापस लिया समर्थन

भाजपा अध्यक्ष की बैठक में जम्मू कश्मीर में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष रविंद्र रैना और पार्टी के महासचिव (संगठन) अशोक कौल भी शामिल होंगे। कुछ रिपोर्ट्स में कहा जा रहा है कि कश्मीर की पीडीपी और भाजपा गठबंधन की सरकार में कुछ मुद्दों पर मतभेद चल रहे हैं।

amit shahअमित शाह ने की अजीत डोभाल से मुलाकात। (image source-PTI/Express photo)

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने मंगलवार को अपने आवास पर राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के साथ ही जम्मू कश्मीर के भाजपा नेताओं और पार्टी के कुछ अन्य वरिष्ठ नेताओं के साथ अहम बैठक की। इस बैठक में कश्मीर मुद्दे पर चर्चा करते हुए बीजेपी ने वहां की पीडीपी सरकार से अपना समर्थन वापस ले लिया है।  बता दें कि साल 2019 के लोकसभा चुनाव की तैयारियों में जुटा भाजपा का शीर्ष नेतृत्व कश्मीर में राजनैतिक स्थिति को समझने की कोशिश कर रहा था। साथ ही इस बैठक में इस बात पर भी चर्चा हुई कि रमजान के दौरान सरकार की तरफ से किए गए एकतरफा संघर्ष विराम का घाटी में क्या असर पड़ा है। इन सभी मुद्दों पर चर्चा करने के बात भाजपा ने महबूबा मुफ्ती सरकार से अपना समर्थन वापस ले लिया। इस बैठक में जम्मू कश्मीर में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष रविंद्र रैना और पार्टी के महासचिव (संगठन) अशोक कौल भी शामिल हुए। कुछ रिपोर्ट्स में कहा जा रहा है कि कश्मीर की पीडीपी और भाजपा गठबंधन की सरकार में कुछ मुद्दों पर मतभेद चल रहे थे।

सूत्रों के अनुसार, पीडीपी चाहती थी कि सरकार को अलगाववादियों से भी बातचीत करनी चाहिए, लेकिन भाजपा इसे लेकर राजी नहीं था। भाजपा का तर्क था कि अलगाववादी बातचीत का मौका खो चुके हैं और अब उनसे बातचीत नहीं होगी। उल्लेखनीय है कि केन्द्र सरकार ने रमजान के दौरान कश्मीर में एंटी-टेरर गतिविधियों पर रोक लगा दी थी, ताकि रमजान के दौरान आम लोगों को कोई परेशानी ना हो, लेकिन दूसरी तरफ आतंकियों ने इस वक्त का इस्तेमाल खुद को फिर से मजबूत करने में किया। आंकड़ों के अनुसार, कश्मीर में सीजफायर के दौरान आतंकी घटनाओं में काफी बढ़ोत्तरी हुई है।

राइजिंग कश्मीर अखबार के संपादक शुजात चौधरी और भारतीय सेना के जवान औरंगजेब की इस दौरान आतंकियों ने हत्या कर दी। वहीं पाकिस्तान की तरफ से हुई गोलीबारी में बीएसएफ के 4 जवान भी शहीद हो गए। यही वजह रही कि ईद के अगले ही दिन रविवार को सरकार ने सीजफायर खत्म करने का ऐलान कर दिया। सीजफायर के बाद की कश्मीर की स्थिति पर भी आज की बैठक में समीक्षा हुई। इसके अलावा आगामी अमरनाथ यात्रा भी भाजपा अध्यक्ष की बैठक में अहम मुद्दा रहा। दरअसल भाजपा मौजूदा स्थिति को देखते हुए अमरनाथ यात्रा को शांतिपूर्वक संपन्न कराने पर ध्यान दे रही है। वहीं खबरें आयी हैं कि आतंकी इस बार अमरनाथ यात्रा के दौरान बड़ा हमला कर सकते हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 खतरे में पड़ी BJP सांसद की राज्यसभा सदस्यता! कोर्ट ने जारी किया नोटिस
2 बीच रास्‍ते उतार कर सवारी से बोला ओला ड्राइवर- नहीं जाऊंगा ‘मुस्लिम कॉलोनी’, धमकी भी दी!
3 दिल्‍ली के गतिरोध पर पहली बार बोले राहुल गांधी, मोदी-केजरीवाल दोनों पर साधा निशाना
ये पढ़ा क्या?
X