ताज़ा खबर
 

महाराष्ट्र में कोरोना से हाहाकार, गाड़ी में पड़े रहे पिता, बेटा बोला- बेड नहीं दे सकते तो इंजेक्शन देकर मार दो

महाराष्ट्र के चंद्रपुर में अस्पताल के बेड्स पूरे भरे मिले तो पिता को लेकर तेलंगाना तक चक्कर लगा आया बेटा, पर नहीं मिली मदद।

Author Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र नागपुर | Updated: April 15, 2021 9:16 AM
Maharashtra, Ambulanceमहाराष्ट्र में अस्पतालों में बेड्स मुहैया न होने की वजह से एंबुलेंसों में ही हो रहा है मरीजों का प्राथमिक उपचार। (एक्सप्रेस फोटो- जयपाल सिंह)

महाराष्ट्र में कोरोनावायरस महामारी से हालात लगातार बद्तर होते जा रहे हैं। आलम यह है कि अब राज्य में नए मरीजों को कोरोना के इलाज के लिए बेड्स तक नहीं मुहैया हो पा रहे हैं। ऐसे में परिजनों को अपने संक्रमित सदस्यों के साथ अस्पतालों के चक्कर लगाने पड़ रहे हैं। ये हाल महाराष्ट्र के कुछ बड़े शहरों में नहीं, बल्कि छोटे शहरों का भी है। मुंबई से 850 किमी दूर चंद्रपुर में तो अस्पतालों में भर्ती बंद होने की वजह से एक बेटा अपने पिता को लेकर दर-दर भटकता रहा। महाराष्ट्र और तेलंगाना बॉर्डर के बीच कई अस्पतालों का चक्कर काट चुके सागर किशोर नाहरशेतिवार का कहना था कि या तो उसके पिता को चिकित्सीय मदद दी जाए या इंजेक्शन देकर उनकी जान ले ली जाए।

चंद्रपुर में कोरोना के केस अचानक बढ़ने की वजह से सभी अस्पतालों को 24 घंटे के लिए बंद कर दिया गया। ऐसे में बड़ी संख्या में मरीजों को लिए हुए एंबुलेंसों को इन अस्पतालों के बाहर ही खड़े देखा गया। इन्हीं में से एक एंबुलेंस के पास नाहरशेतिवार और उनके पिता मौजूद थे। उन्होंने न्यूज चैनल एनडीटीवी को बताया कि वे मंगलवार दोपहर 3 बजे से ही अस्पतालों के चक्कर काट रहे हैं। पहले वे चंद्रपुर में स्थित वरोरा अस्पताल गए। बाद में कई निजी अस्पतालों के चक्कर काटे, लेकिन उन्हें बेड्स नहीं मिले।

नाहरशेतिवार के मुताबिक, महाराष्ट्र में कोई बेड न मिलने के बाद रात 1.30 बजे वे तेलंगाना गए। करीब 3 बजे तेलंगाना पहुंचने के बाद भी उन्हें कोई बेड खाली नहीं मिला। इसके बाद वे सुबह लौट आए और तबसे अस्पताल में बेड मिलने का इंतजार कर रहे हैं। सागर किशोर का कहना है कि अस्पताल में बेड का इंतजार करते-करते अब उनकी ऑक्सीजन भी खत्म हो रही है। उन्होंने गुहार लगाते हुए कहा कि या तो उनके पिता को बेड मुहैया कराया जाए या इंजेक्शन लगाकर उनकी जान ले ली जाए। हम उन्हें इस तरह घर नहीं ले जा सकते और आप उनके लिए बेड्स मुहैया नहीं करा पा रहे।

बता दें कि चंद्रपुर में पिछले एक दिन में 850 नए केस मिले हैं। इसके अलावा छह मरीजों की मौत भी हुई है। जिले में फिलहाल करीब सात हजार एक्टिव केस हैं। महाराष्ट्र के कई अन्य जिलों का यही हाल है। राज्य में कई जगहों पर तो वेंटिलेटर्स के साथ ऑक्सीजन की कमी भी पैदा हो गई है। खुद सीएम उद्धव ठाकरे ने हाल ही में ऑक्सीजन की आपूर्ति पूरी करने के लिए सेना से मदद मांगी थी। उन्होंने 15 दिन के लिए राज्य में जनता कर्फ्यू लगाने का भी फैसला किया है। बता दें कि महाराष्ट्र में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 58,952 केस मिले हैं। साथ ही 278 जानें गई हैं। फिलहाल राज्य में 6 लाख से ज्यादा एक्टिव केस हैं।

Next Stories
1 कोरोना काल में तिहाड़ से परोल पर छोड़े गए कैदी, 3468 हो गए ‘लापता’, जेल प्रशासन परेशान
2 यूपीः सरकारी र‍िकॉर्ड में कोरोना से 124 मौतें, पर 400 लोगों का हुआ अंतिम संस्कार
3 UP Panchayat Chunav 2021: मुलायम के गढ़ में शिवपाल का जलवा, परिवार के 5 लोग जीते निर्विरोध
यह पढ़ा क्या?
X