ताज़ा खबर
 

लखनऊ: न्‍यूरो सर्जन पर नशीली दवा खिला रेप का आरोप, वीडियो बनाया, जबरन लिव-इन में रखा

उत्तर प्रदेश के लखनऊ में एक युवती ने प्रख्यात न्यूरो सर्जन पर रेप करने और जबरदस्ती लिव इन में रखने का आरोप लगाया है। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।

Author Updated: October 14, 2018 11:49 AM
प्रतीकात्मक तस्वीर (Photo credit- Indian express)

उत्तर प्रदेश के लखनऊ के प्रख्यात न्यूरो सर्जन डॉ. रवि देव के खिलाफ एक युवती ने नशीली दवा खिला रेप करने का आरोप लगाया है। युवती ने अपने आरोप में कहा कि वह डॉक्टर के पास ब्रेन ट्यूमर का इलाज करवाने गई थी, जहां नशीली दवा खिला डॉक्टर ने उसके साथ रेप किया और फिर वीडियो बना लिया। बाद में इन्हीं वीडियो को दिखा डॉक्टर ब्लैकमेल करने लगे और जबरन उसे घर बुलाने लगे। उसे लिव इन में रहने को मजबूर किया। पुलिस ने युवती के आरोप के बाद डॉक्टर के खिलाफ रेप, अप्राकृतिक संबंध बनाने सहित कई मामलों में महानगर कोतवाली थाने में रिपोर्ट दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है। आईपीसी की धारा 341, 323, 354(ग), 376, 377, 506, 313 और 511 के तहत मामला दर्ज किया गया है। वहीं, आरोपी डॉक्टर ने इस पूरे मामले पर सफाई देते हुए कहा कि युवती का आरोप बेबुनियाद है। वह अपनी मर्जी से लिव इन में रह रही थी।

रिपोर्ट्स के अनुसार, लड़की ने बताया, “मेरी बुआ की डॉक्टर से पहले से जान-पहचान थी। वर्ष 2013 में मेरी तबीयत खराब हुई। जांच में पता चला कि सिर में ट्यूमर है। मैं डॉक्टर के यहां इलाज करवाने गई। उन्होंने मेरे सिर के ट्यूमर का ऑपरेशन किया। इलाज के दौरान ही उन्होंने बेहोशी की हालत में मेरे साथ कई बार रेप किया। रेप के दौरान वीडियो बना लिए और कई अापत्तिजनक तस्वीरें ले ली। इलाज के बाद जब मैंने अस्पताल जाना छोड़ दिया तो डॉक्टर ने उन तस्वीरों और वीडियो के माध्यम से मुझे ब्लैकमेल करना शुरू कर दिया। जून 2014 में वे मुझे अलीगंज स्थित अपने फ्लैट पर ले गए और लिव इन में रहने को मजबूर किया। हमेशा मेरे साथ जबरन संबंध बनाते थे। 2015 में गर्भवती होने के बाद गर्भपात भी करवाने का प्रयास किया। उनके विरोध के बावजूद मैंने बच्चे को जन्म दिया। आखिरकार मैं इस साल फरवरी महीने में अपने ढ़ाई साल के बेटे को साथ लेकर डॉक्टर का घर छोड़ दी। अपने घर पर छिपकर रहने लगी। शुक्रवार (12 अक्टूबर) को किसी काम से लखनऊ आयी थी। इस बात की भनक डॉक्टर को लग गई और उन्होंने अपने सहयोगियों के साथ मिलकर मेरे बेटे को मुझसे छीनने की कोशिश की।”

इस गंभीर आरोप पर डॉक्टर ने कहा, “मैं अपनी पहली पत्नी से अलग रहा रहा हूं। हम दोनों के बीच तलाक का केस चल रहा है। इस वजह से मैं दूसरी शादी नहीं कर सकता हूं। युवती अपनी मर्जी से मेरे साथ लिव इन में रह रही थी। अचानक एक दिन वह मेरे बेटे को लेकर चली गई। काफी खोजबीन के बाद पता चला कि उसने किसी दूसरे से शादी कर ली है और वह बच्चे को उन्हें नहीं देना चाहती थी, इसलिए झूठे आरोप लगा रही है।” वहीं, इस मामले पर ट्रांस गोमती के एएसपी हरेंद्र कुमार ने कहा कि मामला दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी गई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 गुजरात: प्रवासी मजदूरों के खिलाफ भड़काऊ संदेश फैलाने के आरोप में कांग्रेस नेता गिरफ्तार