नोएडा में प्रधानमंत्री तो सैफई पहुंचे अखिलेश - Jansatta
ताज़ा खबर
 

नोएडा में प्रधानमंत्री तो सैफई पहुंचे अखिलेश

‘सैफई हमारा गांव है। हमें यहां किसी से पूछ कर नहीं आना है’। अपने सियासी कुनबे से नाराजगी की खबरों को खारिज करते हुए गुरुवार को अखिलेश ने अपने आलोचकों पर पलटवार किया..

Author इटावा | January 1, 2016 2:56 AM
सैफई में उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव साइकिल रैली को झंडा दिखाकर रवाना करते हुए।

‘सैफई हमारा गांव है। हमें यहां किसी से पूछ कर नहीं आना है’। अपने सियासी कुनबे से नाराजगी की खबरों को खारिज करते हुए गुरुवार को अखिलेश ने अपने आलोचकों पर पलटवार किया। हालांकि इसके साथ ही उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने गुरुवार को अपने आलोचकों को एक और बड़ा मौका देते हुए नोएडा में हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यक्रम से दूरी बरती। उत्तर प्रदेश के लिए 7566 करोड़ की बड़ी परियोजना के शिलान्यास के मौके पर मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री की अगवानी के लिए प्रदेश के मंत्री शाहिद मंजूर को भेजा। कहा जाता है कि अखिलेश किसी अपशकुन के डर से नोएडा नहीं आते।अखिलेश यादव ने काठमांडू से चलकर दिल्ली जा रही बौद्धधर्म की साइकिल यात्रा को हरी झंडी दिखाई।

पर्यावरण यात्रा के तौर पर नेपाल के काठमांडू से 18 नवंबर को शुरू हुई यह यात्रा उत्तर प्रदेश के बुद्ध सर्किट के सभी जिलों में भ्रमण करके सैफई पहुंची थी। चाहे बौद्ध यात्रा हो या दिल्ली की सम-विषम योजना पर सवाल, सभी के जवाब में अखिलेश ने साइकिल का ही उदाहरण दिया। उन्होंने कहा कि साइकिल चलाइए और स्वच्छ पर्यावरण पाइए। मुख्यमंत्री ने पत्रकारों से कहा कि पर्यावरणीय असंतुलन का सबसे बुरा असर हमारे किसानों पर पड़ रहा है।

अखिलेश ने कहा कि सैफई उनका अपना गांव है और सैफई में आयोजित उनका अपना महोत्सव है। उन्हें किसी से पूछ कर यहां नहीं आना है। अखिलेश ने कहा कि जो लोग सैफई महोत्सव में मेरी गैरमौजूदगी को लेकर सवाल खड़ा कर रहे हैं वे महोत्सव के कार्यक्रमों को देखने जरूर आएंगे। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि अब आलोचना होगी कि मुख्यमंत्री सैफई महोत्सव से जा क्यों नहीं रहे हैं।

अखिलेश ने सैफई ना आने पर कहा कि कौन राजनीतिक दल सवाल उठा रहा है। जो सवाल उठा रहे हैं, उन्हें एक बार सैफई जरूर आना चाहिए। उन्हें सैफई जैसे कार्यक्रम कहां देखने को मिलेंगे। अखिलेश ने कहा कि मेले में तो हम क्रिकेट देखने ही आते हैं। क्रिकेट अब शुरू हो गया है, अब हम लगातार सैफई आते रहेंगे।
दिल्ली में सम-विषम योजना पर मुख्यमंत्री ने कहा कि अगर पर्यावरण को सुधारना है तो फिर साइकिल का इस्तेमाल करें।

पिछली 26 दिसंबर को सैफई महोत्सव के उद्घाटन के दिन से ही चर्चाएं थीं कि अपने करीबियों आनंद भदौरिया और सुनील यादव साजन को पार्टी से बर्खास्त करने के मुद्दे पर नाराज मुख्यमंत्री ने सैफई महोत्सव से दूरी बना रखी थी। दोनों युवा साथियों के मुद्दे पर मुख्यमंत्री से कई स्तर की वार्ता शिवपाल सिंह यादव के अलावा सैफई महोत्सव समिति के संयोजक तेजप्रताप सिंह और अध्यक्ष धर्मेंद्र यादव ने तो की ही है साथ ही सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव भी मुख्यमंत्री की बेहिसाब तारीफ कर चुके हैं। जबकि मुलायम सिंह यादव लगातार अखिलेश यादव को काम के मुद्दे पर घेरते आ रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App