ताज़ा खबर
 

दिल्ली: नवम्बर के शुरुआती हफ़्तों में हालात होंगे बदतर, बढ़ेगा वायु प्रदूषण

सेंट्रल पाल्यूशन कंट्रोल बोर्ड के नेतृत्व में वाली टास्क फोर्स ने कहा कि, दीवाली के मद्देनजर हवा और भी जहरीली हो सकती है। इसे देखते हुए दिल्ली-एनसीआर में 1 से 10 नवम्बर तक सभी तरह के निर्माण कार्य पर रोक है।

दिल्ली वायु प्रदूषण फोटो सोर्स – न्यू इंडियन एक्सप्रेस

सेंट्रल पाल्यूशन कंट्रोल बोर्ड (CPCB) के नेतृत्व में वाली टास्क फोर्स ने कहा कि देश की राजधानी में हवा की गति धीमी होने के कारण प्रदूषण स्तर और भी बढ़ सकता है। दीवाली के मद्देनजर हवा और भी जहरीली हो सकती है। इसे देखते हुए दिल्ली-एनसीआर में 1 से 10 नवम्बर तक सभी तरह के निर्माण कार्य पर रोक है। विशेषज्ञों की टीम का कहना है कि पंजाब और हरियाणा में पराली जाने के कारण दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण की मात्रा और भी बढ़ सकती है क्योंकि हवा की गति बहुत धीरे है, जिससे पराली के प्रदूषण का सीधा असर होगा। दीवाली को देखते वाहनों की मात्रा भी बढ़ेगी और पटाखों के धुँए से भी प्रदूषण बढ़ सकता है।

प्रदूषण की मात्रा को देखते हुए CPCB ने 4 से 10 नवम्बर तक कोल और बायोगैस से चलने वाली सभी इंडस्ट्री को बंद रखने का सुझाव दिया है। CPCB 1 नवम्बर तक प्रदूषण रोकने के लिए कोई सख्त कदम उठाए, ऐसा देखने को मिल सकता है। गौरतलब है कि पिछले तीस दिनों में प्रदूषण की मात्रा ग्यारह गुना तक बढ़ी है। विशेषज्ञों की मानें तो ठंड बढ़ने के साथ-साथ दिल्ली की हवा और भी जहरीली होती जाएगी। पिछले महीने दिसम्बर 25 तक दिल्ली की हवा में प्रदूषक कण पीएम-10 की मात्रा 34.7 के स्तर पर थी तो वहीं बुधवार को हवा में पीएम-10 की मात्रा 369.9 के चिंताजनक स्तर पर पहुंच गई ।

CPCB के मेंबर सेक्रेटरी डॉ. प्रशांत गार्गव ने बताया कि इन कदमों के अलावा ट्रैफिक और ट्रांसपोर्ट विभाग को भी 1 से 10 नवम्बर तक प्रदूषण फैला रही गाड़ियों पर सख्त कार्यवाही करने के लिए कहा हैं। उन्होंने आम लोगों को सुझाव देते हुए कहा कि लोग निजी गाड़ियों के बजाय पब्लिक ट्रांसपोर्ट का इस्तेमाल करे ताकि जाम और धूल ना झेलना पड़े।

शुक्रवार इस सीजन का सबसे प्रदूषित दिन था। CPCB के अनुसार सुबह के समय प्रदूषण ज्यादा हो रहा है। शुक्रवार को पीएम का स्तर 195 एमजीएम रहा और पीएम 10 का स्तर 332 एमजीएस रहा। शनिवार को इसके बढ़ने की आशंका जताई गई है। मालूम हो कि पीएम-10 की मात्रा 100 और पीएम-2.5 की मात्रा 60 के नीचे होना स्वास्थ्य के लिए लाभप्रद माना जाता है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 पंजाब: पत्नी की हत्या के बाद किया सुसाइड, करवाचौथ की शॉपिंग कर लौटे थे दोनों
2 जीका: गुजरात पहुंचा खतनाक जीका वायरस, एक मामले में हुई पुष्टि
3 राजनाथ बोले- कहीं बाकी पार्टियां कांग्रेस से धोखा खाकर #MeToo चलाने पर मजबूर हो जाएं