ताज़ा खबर
 

एअर इंडिया की छोटी दूरी की उड़ान होगी शाकाहारी

घाटे में चल रहा सरकारी ‘एअर इंडिया’ आगामी एक जनवरी से 90 मिनट तक की दूरी की यात्रा के दौरान अपनी उड़ानों में इकॉनमी क्लास यात्रियों को मांसाहार भोजन नहीं देगा..

Author नई दिल्ली | Updated: December 27, 2015 5:10 AM
एयर इंडिया कनिष्क में 1985 में हुए विस्फोट में उसमें सवार सभी 329 लोग मारे गए थे। (फाइल फोटो)

घाटे में चल रहा सरकारी ‘एअर इंडिया’ आगामी एक जनवरी से 90 मिनट तक की दूरी की यात्रा के दौरान अपनी उड़ानों में इकॉनमी क्लास यात्रियों को मांसाहार भोजन नहीं देगा। राष्ट्रीय वाहक ने अपने दिन और रात्रि भोजन के मेन्यु से चाय और कॉफी दोनों को हटाने का भी फैसला किया है। एअरलाइन ने एक सर्कुलर में कहा कि एअर इंडिया अब तक अपने विमानों में सैंडविच (शाकाहारी और मांसाहारी दोनों) और केक परोसता था, लेकिन एक जनवरी 2016 से इन्हें बंद कर दिया जाएगा और इनकी जगह केवल ‘शाकाहारी’ गर्म भोजन परोसा जाएगा। सर्कुलर में कहा गया, ‘एक जनवरी 2016 से 61 और 90 मिनट तक की दूरी की यात्रा के दौरान घरेलू क्षेत्र के सभी विमानों में इकॉनमी क्लास के यात्रियों को हर तरह का भारतीय शाकाहारी गर्म भोजन परोसे जाने का फैसला किया गया है’।

ज्यादातर गैर मेट्रो मार्ग पर उड़ान भरने वाले विमानों को ही इस श्रेणी में रखा गया है। एअर इंडिया ने इस कदम का बचाव करते हुए कहा है कि उसने अपने भोजन स्तर में सुधार किया है जबकि यातायात उद्योग से जुड़े एक विशेषज्ञ ने इस फैसले को एकतरफा बताया है। एअरलाइन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘हमने तो अपने भोजन के स्तर में सुधार किया है। अब तक हमलोग केवल सैंडविच और केक परोसते थे लेकिन अब इनकी जगह गर्म भोजन ने ले ली है’। उन्होंने कहा कि विमान पर सवार 150 यात्रियों की सेवा में मौजूद महज दो चालक सदस्यों को इतने कम समय में कभी-कभी यात्रियों को उनकी पसंद के मुताबिक चीजें मुहैया कराने में दिक्कत आती है।

बहरहाल, यातायात उद्योग के विशेषज्ञ रज्जी राय के मुताबिक, सरकार के स्वामित्व वाले एअरलाइन को मेन्यु में कोई भी तब्दीली लाने से पहले एक यात्री सर्वेक्षण करना चाहिए, जो उद्योग की कार्यप्रणाली रही है। उन्होंने कहा, ‘एअरलाइन की दुनिया में इस तरह के फैसले से पहले उपभोक्ताओं का सर्वेक्षण किया जाता है। दुर्भाग्य से एअर इंडिया इस तरह की कार्यप्रणाली से दूर ही रहा है। गैर मेट्रो मार्ग के विमानों में मांसाहारी भोजन नहीं परोसने का फैसला एकतरफा है’।

पिछले महीने 16.2 फीसद मार्केट शेयर के साथ एअर इंडिया में 11.8 लाख यात्रियों ने यात्रा की। बयान में एअर इंडिया ने कहा कि मौजूदा समय में वह 61 से 90 मिनट की दूरी की यात्रा के दौरान विमानों में ठंडा शाकाहारी नाश्ता मुहैया कराता है। लेकिन अब इतने समय की दूरी की यात्रा के दौरान यात्रियों को बिल्कुल गर्म शाकाहारी भोजन दिया जाएगा। इसके अनुसार, ‘भोजन परोसे जाने के बाद यात्रियों की प्रतिक्रिया भी ली जाएगी। वहीं यात्रा का समय 90 मिनट से अधिक होने पर शाकाहारी और मांसाहारी दोनों तरह के भोजन का विकल्प मौजूद होगा’।

वहीं जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने इस फैसले पर सवाल उठाया। उमर ने ट्विटर पर पोस्ट किया, ‘मेरी गुजारिश है कि बताइए ऐसा क्यों? इस फैसले के पीछे छिपे तर्क को ढूंढ़ने की मैं बहुत कोशिश कर रहा हूं लेकिन अब तक जवाब ही तलाश रहा हूं’। उमर के रीट्वीट में यह बताया गया है कि एक घंटा और 90 मिनट की यात्रा के दौरान एअर इंडिया के घरेलू विमानों में इकॉनमी क्लास के यात्रियों को केवल शाकाहारी भोजन परोसा जाएगा।

* इकॉनमी क्लास के मेन्यु से अब चाय और कॉफी भी हुए बाहर
* 90 मिनट की यात्रा वाली उड़ानों में नहीं परोसा जाएगा मांसाहारी खाना
* ज्यादातर गैर मेट्रो मार्ग पर उड़ान भरने वाले विमान ही इस श्रेणी में

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories