AIADMK leader Hari Prabhakaran sacks from all party posts for disrespecting journalists - AIADMK नेता ने पत्रकारों को कहा 'गली का कुत्‍ता', लिखा- उन्‍हें गेट पर बांधे रखना ही ठीक - Jansatta
ताज़ा खबर
 

AIADMK नेता ने पत्रकारों को कहा ‘गली का कुत्‍ता’, लिखा- उन्‍हें गेट पर बांधे रखना ही ठीक

हरी ने एक अन्य ट्वीट करते हुए पत्रकारों को लोकतंत्र का जंग लगा हुआ पिल्लर बताया था। इस ट्वीट के बाद पार्टी ने कड़ा कदम उठाते हुए उन्हें सभी पदों से निकाल दिया। इस नोटिस पर ओ पनीरसेल्वम और इडाप्पडी पलानीसामी ने साइन किया है।

AIADMK नेता हरी प्रभाकरन (फोटो सोर्स- ट्विटर/@Hariadmk)

पत्रकारों के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी करने वाले एआईएडीएमके नेता हरी प्रभाकरन के खिलाफ कड़ा एक्शन लेते हुए पार्टी ने उन्हें सभी पदों से निकाल दिया है। दरअसल, एआईएडीएमके के आईटी विंग के सदस्य प्रभाकरन ने हाल ही में पत्रकारों को लेकर बेहद ही अपमानजनक ट्वीट किया था। उन्होंने अपने ट्वीट में पत्रकारों को ‘गली का कुत्ता’ कहा था। हरी ने सोशल मीडिया पर कहा था, ‘डीसीएम के दौरे के दौरान पत्रकारों को अस्पताल के अंदर शूटिंग करने की इजाजत नहीं है। गली के कुत्ते जो कि बिस्कुट के लिए चिल्लाते रहते हैं उन्हें गेट पर बांधना ही ठीक है, उन्हें अंदर नहीं आने देना चाहिए।’ इसके अलावा हरी ने एक अन्य ट्वीट करते हुए पत्रकारों को लोकतंत्र का जंग लगा हुआ पिल्लर बताया था।

प्रभाकरन के इस ट्वीट के बाद पार्टी ने कड़ा कदम उठाते हुए उन्हें सभी पदों से निकाल दिया। सोमवार को पार्टी की तरफ से एक बयान जारी कर कहा गया, ‘पार्टी के सिद्धांतों के खिलाफ जाकर काम करने के कारण, पार्टी की छवि पर काला धब्बा लगाने के कारण, पार्टी के अनुशासन के साथ खिलवाड़ करने के कारण सी हरी प्रभाकरन, जो पार्टी के कांचीपुरम ईस्ट डिविजन से आते हैं, उन्हें पार्टी के सभी पदों से, जिनमें पार्टी की सदस्यता भी शामिल है, निकाला जाता है। हम पार्टी के सभी सदस्यों से अपील करते हैं कि वे हरी से किसी भी तरह का कोई संपर्क न रखें।’ इस नोटिस पर ओ पनीरसेल्वम और इडाप्पडी पलानीसामी ने साइन किया है।

बता दें कि कुछ ही समय बाद हरी ने पत्रकारों को कुत्ता कहने वाला ट्वीट डिलीट कर दिया था और अब उन्होंने अपने कृत्य के लिए माफी भी मांग ली है। हरी ने ट्वीट कर कहा, ‘मेरे द्वारा जो भी बातें कही गई हैं वह मेरे खुद के विचार हैं और पार्टी का इससे कोई संबंध नहीं है। मुझे पार्टी के विचार जाहिर करने का अधिकार नहीं है। मैंने सुना कि सुबह मैंने जो ट्वीट किया था उससे कई लोगों को ठेस पहुंचा है। मेरे मन में किसी निश्चित ग्रुप के लिए कोई द्वेष नहीं है। मैं उन सभी लोगों से माफी मांगता हूं जिनकों मेरी वजह से दुख पहुंचा है।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App