ताज़ा खबर
 

अफजाल अंसारी का आरोप- सरकारी मशीनरी के दबाव में ठीक से नहीं हुआ मुख्तार का इलाज

मऊ से बसपा विधायक मुख्तार अंसारी को गत नौ जनवरी को दिल का दौरा पड़ने के बाद एसजीपीजीआई में भर्ती कराया गया था।

Author लखनऊ | January 12, 2018 6:21 PM
पूर्व सांसद अफजाल अंसारी। (File Photo)

पूर्व सांसद अफजाल अंसारी ने विभिन्न मुकदमों के सिलसिले में जेल में बंद अपने विधायक भाई मुख्तार अंसारी का सरकारी मशीनरी के दबाव में ठीक ढंग से इलाज नहीं किए जाने का आरोप लगाया है। पिछले दिनों मुख्तार को दिल का दौरा पड़ा था। अफजाल ने शुक्रवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में आरोप लगाया कि गत नौ जनवरी को बसपा विधायक मुख्तार को बांदा जेल में ही दिल का दौरा पड़ने के बाद लखनऊ स्थित संजय गांधी परास्रातक आयुर्विज्ञान संस्थान (एसजीपीजीआई) में भर्ती कराया गया था। उनकी चिकित्सा जांच में उन्हें दिल का दौरा पड़ने की बात सामने आई थी। डाक्टरों ने उन्हें 72 घंटे तक निगरानी में रखने की बात कही थी, लेकिन जल्दबाजी में सिर्फ 40 घंटे के अंदर ही उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई।

पूर्व सपा सांसद ने कहा कि 11 जनवरी को जल्दबाजी में समुचित इलाज किए बिना ही मुख्तार को अस्पताल से छुट्टी देकर सड़क मार्ग से बांदा जेल भेज दिया गया। उन्होंने कहा कि उनके पास पुख्ता सबूत है कि सरकारी मशीनरी के दबाव के कारण मुख्तार का एसजीपीजीआई में ठीक ढंग से इलाज नहीं किया गया। अफजाल ने राज्य सरकार पर दोहरी नीति अपनाने का आरोप लगाते हुए कहा कि माफिया ब्रजेश सिंह वाराणसी का रहने वाला है। उसे वाराणसी की ही जेल में रखा गया है। वहीं, मुख्तार को गम्भीर बीमारी के बावजूद 400 किलोमीटर दूर बांदा जेल भेजा गया है, जबकि बांदा में उनके खिलाफ कोई मुकदमा भी नहीं है।

उन्होंने कहा कि मुख्तार पर मऊ, गाजीपुर, लखनऊ और आगरा में मुकदमे चल रहे हैं, लिहाजा उनकी सरकार से मांग है कि उनके भाई को इन्हीं जिलों या फिर ऐसी जगह की जेल में रखा जाए, जहां किसी आपात स्थिति में उन्हें आसानी से इलाज मिल सके। उल्लेखनीय है कि मऊ से बसपा विधायक मुख्तार अंसारी को गत नौ जनवरी को दिल का दौरा पड़ने के बाद एसजीपीजीआई में भर्ती कराया गया था, जहां से गुरुवार से उन्हें छुट्टी दे दी गई। वह बांदा जेल पहुंच गए हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App