ताज़ा खबर
 

सेनेट्री नैपकिन पर बनी फिल्म से जीता था ऑस्कर अवॉर्ड, अब नौकरी के लिए भटक रहीं सुमन और स्नेहा

सेनेट्री नैपकिन पर बनी फिल्म पीरियड: एंड ऑफ सेंटेंस में अहम भूमिका निभाकर उत्तर प्रदेश के हापुड़ की 2 लड़कियों ने ऑस्कर अवॉर्ड जीता था। हालांकि, यही कामयाबी अब उनके लिए मुसीबत बन गई है। आलम यह है कि दोनों बहनों को फिलहाल कोई नौकरी नहीं मिल रही है।

पीरियड : एंड ऑफ सेंटेंस की स्नेहा और सुमन (फोटो सोर्स: इंडियन एक्सप्रेस)

सेनेट्री नेपकिन पर बनी डाक्यूमेंट्री फिल्म पीरियड : एंड ऑफ सेंटेंस में अहम भूमिका निभाकर ऑस्कर अवार्ड जीतने वाली हापुड़ के गांव काठीखेड़ा निवासी सुमन और स्नेहा अब नौकरी के लिए दर-दर भटक रही हैं। बताया जा रहा है कि एनजीओ एक्शन इंडिया ने उन्हें नौकरी से निकाल दिया है। इसके लिए एनजीओ ने उनकी उपलब्धि पर सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव की ओर से मिली इनामी राशि को नियम विरुद्ध बताया। दोनों बहनों ने रविवार को हापुड़ में प्रेस कॉन्फ्रेंस की और अपना दर्द बयां किया।

यह है मामला: सेनेट्री नैपकिन पर बनी फिल्म के ऑस्कर जीतने के बाद हापुड़ में रहने वाली दोनों बहनों स्नेहा और सुमन को पूरे देश में शोहरत मिली थी। रविवार को उन्होंने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाई और सनसनीखेज खुलासा किया। उन्होंने बताया कि पूरे देश में शोहरत पाने के बाद भी वे दोनों बेरोजगार हैं। दोनों बहनों के मुताबिक, वे पहले एक्शन इंडिया एनजीओ में काम करती थीं। उन पर बनी फिल्म के ऑस्कर जीतने के बाद उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने उनकी टीम की 9 सदस्यों को एक-एक लाख रुपए का चेक किया था।

National Hindi News, 03 June 2019 LIVE Updates: पढ़ें आज की बड़ी खबरें

इस वजह से बढ़ा विवाद: सुमन और स्नेहा का आरोप है कि एक्शन इंडिया ने पूर्व सीएम अखिलेश यादव द्वारा दिए गए चेक मांग थे। एनजीओ का कहना था कि ये चेक नियम के विरुद्ध दिए गए हैं। लड़कियों ने चेक देने से इनकार कर दिया तो उन्हें 29 मई को नौकरी से निकाल दिया गया।

Bihar News Today, 03 June 2019: आज की बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करें

एक्शन इंडिया पर भेदभाव का भी आरोप: सुमन ने बताया कि पूर्व सीएम द्वारा यह धनराशि मिलने की सूचना कई दिन पहले से को-ऑर्डिनेटर सुलेखा सिंह को मिल गई थी। साथ ही, उन्हें भी एक लाख रुपए का चेक जारी किया गया। यह पुरस्कार मिलने से पहले एक्शन इंडिया ने कोई एतराज नहीं जताया। वहीं, बाद में उनसे रुपये लौटाने का दबाव बनाया गया और चेक न देने पर उन्हें नौकरी से निकाल दिया गया।

काम न आने की बात कहकर निकाला: स्नेहा का कहना है कि फिल्म को ऑस्कर अवॉर्ड मिलने के बाद उन्होंने करीब डेढ़ महीने तक सबला यूनिट में काम किया। इसके बाद एक्शन इंडिया के अधिकारियों ने कहा कि उन्हें काम नहीं आता है और दोनों को नौकरी से निकाल दिया। स्नेहा और सुमन ने बताया कि जब वे किसी छोटी नौकरी के लिए जाती हैं तो लोग उनके सेलिबिट्री होने का हवाला देते हैं। ऐसे में वे दोनों नौकरी को लेकर काफी परेशान हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 मंत्रिमंडल विस्तार: जेडीयू-बीजेपी में बढ़ने लगी दरार! एक दूसरे की इफ्तार पार्टी में नहीं हुए शामिल
2 पूर्व CJI को एक लाख की चपत, करीबी दोस्त के ईमेल पर भी आंख मूंद मत करें भरोसा, पढ़ें पूरा किस्सा
3 बीजेपी सांसद रीता बहुगुणा जोशी के कांग्रेस में रहते यूपी सरकार ने दायर किया था केस, योगी सरकार वापस लेगी मुकदमा
ये पढ़ा क्या?
X