ताज़ा खबर
 

महाराष्ट्र: चार साल के बाद होंगे विधानसभा उपाध्यक्ष पद के लिए चुनाव

महाराष्ट्र विधानसभा को चार साल के अंतराल के बाद उपाध्यक्ष मिलेगा। खाली पड़े इस संवैधानिक पद के लिए चुनाव कराने की घोषणा बुधवार को की गई।

Author Updated: November 28, 2018 5:13 PM
महाराष्ट्र विधानसभा में उपाध्यक्ष के लिए होंगे चुनाव

महाराष्ट्र विधानसभा को चार साल के अंतराल के बाद उपाध्यक्ष मिलेगा। खाली पड़े इस संवैधानिक पद के लिए चुनाव कराने की घोषणा बुधवार को की गई। प्रश्नकाल के बाद विधानसभा अध्यक्ष हरिभाऊ बागड़े ने कहा कि इस पद के लिए 30 नवंबर को मतदान होगा।अगर चुनाव की घोषणा नहीं की गई होती तो सबसे लंबी अवधि तक उपाध्यक्ष नहीं होने को लेकर 13 वीं विधानसभा इतिहास में दर्ज हो जाती। कांग्रेस के वसंत पुरके 2014 से पहले अंतिम उपाध्यक्ष थे। वह इससे पूर्ववर्ती विधानसभा में भी इस पद पर आसीन थे।
हालांकि, मुख्यमंत्री देवेन्द्र फड़णवीस की अगुवाई वाली भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के 31 अक्टूबर 2014 को सरकार में आने के बाद से पिछले चार वर्षों से यह पद खाली है।
चुनाव कार्यक्रम की घोषणा करते हुये विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि नामांकन दाखिल करने की प्रक्रिया बुधवार को शुरू हो जाएगी और बृहस्पतिवार को नामांकन पत्रों की जांच की जाएगी। नामांकन पत्र 30 नवंबर को सुबह 10.30 बजे तक वापस लिया जा सकेगा।

उन्होंने बताया, ‘‘अगर चुनाव जरूरी हुआ तो 30 नवंबर को सुबह 11.30 बजे से दोपहर एक बजे के बीच मतदान होगा।’’ विधानसभा के सदस्य उपाध्यक्ष का चयन करते हैं।
288 सदस्यीय विधानसभा में 122 सदस्यों के साथ भाजपा सबसे बड़ी पार्टी है। इसके बाद शिवसेना के 63, कांग्रेस के 42 और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के 41 विधायक हैं।

कुछ दिन पहले ही बीजेपी के विधायक अनिल गोटे ने राजनीति से रिटायरमेंट लेने की घोषणा कर दी है। उन्होंने भाजपा विधायकों को भेजे पत्र में लिखा है कि वह पार्टी में अपराधियों को एंट्री मिलने से खुश नहीं हैं। पार्टी कांग्रेस के रास्ते पर चल रही है। वह महाराष्ट्र विधानसभा से 19 नवंबर को इस्तीफा देंगे। अनिल गोटे महाराष्ट्र की धुले विधानसभा सीट से विधायक और बीजेपी के वरिष्ठ नेता हैं। गोटे ने कहा है कि पार्टी ने धुले विधानसभा क्षेत्र के कुछ आपराधिक लोगों को संगठन में शामिल किया है। ऐसे में वह अब पार्टी और विधानसभा की सदस्यता से अपना इस्तीफा दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि वह धुले नगर निगम के लिए 9 दिसंबर को होने वाले मेयर का चुनाव लड़ेंगे। गोटे ने कहा मैंने 9 दिसंबर को आयोजित होने वाले मेयर चुनावों में लड़ने का फैसला किया है।

गोटे के बीजेपी छोड़ने के बाद यह मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के लिए झटका होगा क्योंकि वह पार्टी से इस्तीफा देने वाले राज्य के दूसरे विधायक होंगे। पिछले महीने, कटोल भाजपा विधायक आशीष देशमुख ने बीजेपी नेतृत्व के उदासीन दृष्टिकोण का विरोध करने के लिए पार्टी को छोड़ दी थी। उन्होंने कहा कि मैं विधानसभा के शीतकालीन सत्र के पहले दिन 19 नवंबर को असेंबली स्पीकर को अपना इस्तीफा सौंप दूंगा। मैं रावसाहेब दानवे के अपराधियों को रेड कार्पेट वेलकम करने के तरीके से बहुत दुखी हूं, जो अटल बिहारी वाजपेयी द्वारा निर्धारित नीतियों के खिलाफ है। अधिक चौंकाने वाला तथ्य यह था कि दानवे अपने काम को न्यायसंगत साबित कर रहे थे।

Next Stories
1 बीजेपी के बागी विधायक ने अब कांग्रेस प्रत्याशी साफिया को बताया ‘नागिन’
2 Madhya Pradesh Elections 2018: 3 मतदान अधिकारियों की मौत, ईवीएम में खराबी पर यह बोले कमलनाथ
ये खबर पढ़ी क्या?
X