ताज़ा खबर
 

एग्जिट पोल्स बढ़ाएगा नीतीश कुमार का सिरदर्द! बीजेपी में उठी मांग- बिहार में हो अपना सीएम

एग्जिट पोल के पूर्वानुमान में बिहार में भाजपा की मजबूत स्थिति का असर पार्टी में दिखने लगा है। पार्टी के कई नेता अब राज्य में भाजपा का मुख्यमंत्री होने की मांग कर रहे हैं।

राज्य में भाजपा के मजबूत होने के बाद सीएम नीतीश कुमार के लिए मुश्किलें बढ़ सकती हैं। (फाइल फोटो)

एग्जिट पोल में एनडीए की सरकार में वापसी के साथ बिहार में मजबूत होने का अनुमान व्यक्त किया गया है। एग्जिट पोल के अनुसार बिहार में भाजपा के क्लीन स्वीप की बात कही गई है। बिहार में एनडीए के 38 से 40 सीटें जीतने का अनुमान जताया गया है। ऐसे में इन एग्जिट पोल के पूर्वानुमान ने राज्य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की सिरदर्दी बढ़ा दी है।

राज्य में भाजपा के मजूबत होती स्थिति के बाद पार्टी के नेता बिहार में नीतीश के स्थान पर अपना मुख्यमंत्री होने की मांग कर रहे हैं।
बिहार के एमएलसी सच्चिदानंद राय उन नेताओं में शामिल हैं जिनका कहना है कि यदि वोट नरेंद्र मोदी के नाम पर मांगे गए हैं तो राज्य में नीतीश के स्थान पर भाजपा का मुख्यमंत्री क्यों नहीं होना चाहिए।

सच्चिदानंद राय का कहना है कि बिहार में जीतन राम मांझी, उपेंद्र कुशवाहा जैसे नेता नीतीश कुमार के कारण ही एनडीए को छोड़ कर गए हैं। इसका कारण भाजपा में नीतीश कुमार के समर्थकों का मौजूद होना बताया जा रहा है। टेलीग्राफ की खबर के अनुसार नीतीश कुमार के समर्थकों ने ही यह सुनिश्चित किया कि भाजपा और जदयू बिहार में बराबर 17-17 सीटों पर चुनाव लड़ें।

राय ने यह भी कहा, ‘पार्टी के विधायकों की संख्या के आधार पर कैबिनेट में भाजपा के मंत्रियों की संख्या तय है। लेकिन इस फॉर्म्यूला को सीटों के बंटवारे के समय नहीं माना गया। जदयू के पास 2 सीट थी जबकि भाजपा के पास 22 सीटें थीं। इसके बावजूद दोनों दलों ने 17-17 सीटों पर चुनाव लड़ा। नीतीश लगातार भाजपा की महत्वपूर्ण नीतियों पर सवाल उठाते रहे चाहे वह अनुच्छेद 370 हो, समान नागरिक संहिता हो या राम मंदिर का मुद्दा हो।’

राज्य भाजपा अध्यक्ष नित्यानंद राय और अन्य पार्टी नेताओं ने सच्चिदानंद राय के बयान को ज्यादा तरजीह नहीं देने की बात कही है। नित्यानंद राय ने इसे सच्चिदानंद राय का व्यक्तिगत राय बताई है। एक वरिष्ठ भाजपा नेता ने नाम न बताए जाने की शर्त पर बताया कि एग्जिट पोल के पूर्वानुमान हमारे लिए बिल्कुल आश्चर्यजनक हैं।

उन्होंने कहा, ‘हम महागठबंधन से अधिक सीटें जीतने की उम्मीद कर रहे थे लेकिन तीन-चौथाई सीटों की उम्मीद नहीं थी।’ एग्जिट पोल के बाद भाजपा के अध्यक्ष अमित शाह ने जदयू के प्रदेशाध्यक्ष और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, लोजपा प्रमुख राम विलास पासवान को गठबंधन के सहयोगियों के साथ डिनर पर आमंत्रित किया है।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X