ताज़ा खबर
 

पंजाब: इलेक्‍शन में ड्रग्‍स के इस्‍तेमाल पर चुनाव आयुक्‍त ने मनमोहन सिंह को लिखी थी चिट्ठी, पर नहीं हुई सुनवाई

2012 में तत्कालीन चुनाव आयुक्‍त एसवाई कुरैशी ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को पंजाब में इलेक्‍शन में ड्रग्‍स के इस्‍तेमाल को लेकर पत्र लिखा था, लेकिन उनके पत्र पर कोई सुनवाई नहीं हुई।

Author नई दिल्ली | June 11, 2016 6:52 AM
पंजाब में कई ऐसे लोग हैं जिनके परिवार के किसी ना किसी सदस्य को पुलिस ने पकड़ लिया और फिर बाद में जमानत पर छोड़ दिया। (अपनी बेटी को बचाने की गुजारिश करते हुए जीत कौर को रोना आ जाता है।) (फोटो-एक्सप्रेस)

चार साल पहले 2012 में तत्कालीन चुनाव आयुक्‍त एसवाई कुरैशी ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को पंजाब में इलेक्‍शन में ड्रग्‍स के इस्‍तेमाल को लेकर पत्र लिखा था, लेकिन उनके पत्र पर कोई सुनवाई नहीं हुई। कुरैशी ने तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को पत्र लिखकर पंजाब में चुनाव प्रचार के दौरान ड्रग्स जब्त की बात कही थी। इंडियन एक्सप्रेस को उस पत्र की कॉपी मिली है।

जनवरी-मार्च 2012 में यूपी और पंजाब में एक साथ विधानसभा चुनाव हुए थे। नॉमिनेशन से मतदान तक राज्य पुलिस, केंद्रीय अर्द्धसैनिक बलों और चुनाव आयोग ने पंजाब के अलग-अलग हिस्सों से 2700 किलोग्राम अफीम जब्त हुई की थी। यह मात्रा यूपी में केवल 100 किलो थी। इसके साथ ही इस दौरान 53.555 किलो हिरोईन और 3.79 किलो स्मैक जब्त की गई थी।

Read Alsoपंजाब: जानिए उस गांव के बारे में जिस पर है ड्रग्‍स के मामले से सबसे ज्‍यादा FIR होने का रिकॉर्ड

कुरैशी ने मनमोहन को लिखे पत्र में कहा था कि आसानी से उपलब्ध होने वाली दवाओं का इस्तेमाल राज्य में चुनाव के दौरान किया जा रहा है। तीन मई 2012 को कुरैशी ने मनमोहन को लिखे पत्र में कहा था, ‘चुनाव आयोग मीडिया और रिसर्च की उन रिपोर्ट की पुष्टि करता है, जिसमें कहा गया था कि पंजाब ड्रग्स तस्करी का हब बन गया है। 40 फीसदी उच्च शक्तिशाली ड्रग्स यूरोप और नॉर्थ अमेरिका तक भेजी जाती है। सबसे दुर्भाग्य वाली बात यह है कि इसका असर युवाओं के स्वास्थ्य और भविष्य पर पड़ रहा है। चुनाव के दौरान मुफ्त में ड्रग्स बांटी जा रही हैं।’

Read AlsoGround Report: आजाद घूम रहे ड्रग्स के कारोबारी, पर इस्तेमाल करने वालों पर है पंजाब पुलिस की पूरी सख्ती

उस पत्र के बारे में पूछे जाने पर कुरैशी ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया, ‘हम और क्या कर सकते थे। चुनाव आयोग के कार्यकाल में मैंने ऐसा पहले कभी नहीं देखा था, जो पंजाब में देखा। मैंने सोचा कि मैंने प्रधानमंत्री के ध्यान में इसे ला दिया है। यह समस्या उग्र रूप धारण ना करे, इसके लिए कदम उठाए जाएंगे।’

जब उनसे पूछा गया कि क्या उन्हें सिंह की ओर से उस पत्र पर कोई जवाब मिला तो उन्होंने बताया, ‘मुझे केवल यह जानकारी मिली थी कि पत्र प्रधानमंत्री तक पहुंच गया है। उसके बाद मुझे कुछ भी नहीं मिला।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App