ताज़ा खबर
 

अंतरिम बजट को अखिलेश ने बताया झूठ का पुलिंदा, कहा- बोरी की चोरी करने वाली भाजपा का बोरिया-बिस्तर ही बांध देंगे

मोदी सरकार के बजट पर अखिलेश यादव ने जोरदार हमला किया और कहा बोरी की चोरी करने वाली भाजपा का बोरिया-बिस्तर ही बाँध देंगे।

अखिलेश यादव, फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस

मोदी सरकार का अंतरिम बजट आज (शुक्रवार) वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने पेश किया। बजट में किसानों से लेकर मिडिल क्लास आदमी तक के लिए कुछ न कुछ ऐलान किया गया। एक तरफ जहां मोदी सरकार ने छोटे किसानों के खाते में सरकार ने 6 हजार रुपए सालाना जमा कराने का ऐलान किया तो वहीं इनकम टैक्स छूट सीमा को दोगुना कर दिया। मोदी सरकार के बजट पर उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने जोरदार हमला किया और कहा बोरी की चोरी करने वाली भाजपा का बोरिया-बिस्तर ही बाँध देंगे।

क्या बोले अखिलेश यादव: भाजपा के मुखिया और उत्तर प्रदेश के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने मोदी सरकार के बजट पर हमला करते हुए ट्वीट किया- एक साल के बजट में दस साल आगे की झूठी बात है। बहुसंख्यक भूमिहीन किसानों व श्रमिकों के लिए इसमें कुछ भी राहत नहीं है। पाँच सालों की प्रताड़ना और पीड़ा के बाद देश के किसान, व्यापारी-कारोबारी, बेरोज़गार युवा अब भाजपा से मुक्ति चाहते हैं, दिखावटी ऐलान नहीं।

दोबारा किया हमला: पहले जहां अखिलेश ने बजट को अगले दस साल का झूठ बताया को वहीं दूसरी बार ट्वीट करते हुए उन्होंने लिखा- भाजपा सरकार ने पिछले 5 सालों में 5-5 किलो करके खाद की बोरियों से जो निकाला है, अब उसी को वो 6 हज़ार रुपया बनाकर साल भर में वापस करना चाहती है। भाजपा ने दाम बढ़ाकर व वज़न घटाकर दोहरी मार मारी है। अगले चुनाव में किसान ‘बोरी की चोरी करने वाली भाजपा’ का बोरिया-बिस्तर ही बाँध देंगे।

बजट से पहले भी किया था ट्वीट: बता दें कि अखिलेश यादव ने आज (शुक्रवार) सुबह बजट पेश होने के पहले भी एक ट्वीट किया था जिसमें उन्होंने लिखा था – जब हर क्षेत्र में देश गया घट, तो क्या करोगे ला कर बजट, तैयार हो जाइए आनेवाला है झूठ का पुलिंदा जिसमें ‘सच’ को छोड़कर सब कुछ होगा

गौरतलब है कि अखिलेश के अलावा कई और नेता भी मोदी सरकार के इस बजट पर वार कर चुके हैं। जिसमें जहां पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने इसे इलेक्शन का बजट बताया तो वहीं कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि एक दिन का 17 रुपए देना किसानों का अपमान है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App