ताज़ा खबर
 

2035 के बाद हर साल पैदा होंगे सबसे ज्यादा मुस्लिम बच्चे, ईसाई हो जाएंगे पीछे

प्यू रिसर्च सेंटर ने मुसलमानों जनसंख्या में बढ़ोतरी की वजह को बताते हुए लिखा है कि पिछले कुछ सालों में और आने वाले दिनों में भी ईसाई धर्म में सबसे ज्यादा मौतें दर्ज की जाएंगी क्योंकि वर्तमान में दुनिया में ईसाई समुदाय ही सबसे उम्रदराज तबका है।

नमाज अदा करते मुस्लिम समुदाय के लोग। ( Photo Source: Indian Express/ Archives)

जनसंख्या के राजनीतिक, सामाजिक और आर्थिक असर का अध्ययन करने वाली अमेरिकी संस्था प्यू रिसर्च सेंटर ने अपने एक रिसर्च में दावा किया है कि आने वाले लगभग 20 सालों में मुस्लिम महिलाएं बच्चा पैदा करने के मामले में क्रिश्चयन महिलाओं को पीछे छोड़ देंगी। अभी दुनिया में सभी धर्मों में क्रिश्चयन धर्म की महिलाएं सबसे ज्यादा बच्चे जन्म देती हैं लेकिन 2035 तक ये आंकड़ा बदलने वाला है। प्यू रिसर्च सेंटर ने अपने नये शोध में बताया है कि, ‘अब से 20 साल से भी कम की अवधि में मुसलमानों को पैदा होने वाली संतान ईसाई धर्मावलंबियों के बच्चों से ज्यादा हो जाएंगे।’

प्यू रिसर्च सेंटर ने मुसलमानों जनसंख्या में बढ़ोतरी की वजह को बताते हुए लिखा है कि पिछले कुछ सालों में और आने वाले दिनों में भी ईसाई धर्म में सबसे ज्यादा मौतें दर्ज की जाएंगी क्योंकि वर्तमान में दुनिया में ईसाई समुदाय ही सबसे उम्रदराज तबका है। वहीं इस्लाम मानने वालों की आबादी अपेक्षाकृत रुप से जवान है और उनका प्रजनन दर भी अधिक है। प्यू रिसर्च सेंटर के शोध से पता चला है कि, दुनिया भर में मुसलमानों की व्यस्क आबादी और उच्च प्रजनन दर की वजह से 2030 से 2035 तक 225 मिलियन मुस्लिम बच्चे पैदा होंगे, जबकि इसी दौरान क्रिश्चयन बच्चों की संख्या 224 मिलियन होगी। हालांकि इस दौरान भी दुनिया में कुल आबासी ईसाईयों की ही ज्यादा रहेगी। 2055 से 2060 के बीच ईसाईयों से मुस्लिम बच्चे 60 लाख ज्यादा हो जाएंगे।

HOT DEALS
  • I Kall K3 Golden 4G Android Mobile Smartphone Free accessories
    ₹ 3999 MRP ₹ 5999 -33%
    ₹0 Cashback
  • Vivo V5s 64 GB Matte Black
    ₹ 13099 MRP ₹ 18990 -31%
    ₹1310 Cashback

टाइम्स ऑफ इंडिया ने प्यू रिसर्च सेंटर की रिपोर्ट का हवाला देकर लिखा है कि दो साल पहले ही प्यू रिसर्च सेंटर ने दावा किया था कि 2050 दुनिया में मुसलमानों की आबादी ईसाईयों के बराबर हो जाएगी। इस समय तक प्यू के दावे के मुताबिक दुनिया में 2.8 बिलियन मुस्लिम होंगे, जबकि ईसाईयों की संख्या 2.9 बिलियन होगी, और ये मानव इतिहास में पहली बार होगा। प्यू रिसर्च सेंटर ने ही दावा किया है कि भारत में भी 2050 तक दुनिया के सबसे ज्यादा मुसलमान रहेंगे। इस वक्त दुनिया में सबसे ज्यादा मुसलमान इंडोनेशिया में रहते हैं।

बीजेपी के 37वें स्थापना दिवस पर प्रधानमंत्री मोदी ने कार्यकर्ताओं को दी बधाई

शिया पर्सनल लॉ बोर्ड ने तीन तलाक, गो-हत्या पर बैन लगाने की मांग की

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App