ताज़ा खबर
 

एक्टिविस्ट नवदीप कौर को HC से जमानत, याचिका में लगाया यातना देने का आरोप

पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय ने शुक्रवार को श्रम अधिकार कार्यकर्ता नवदीप कौर को जमानत दे दी।

Author Edited By subodh gargya चंडीगढ़ | Updated: February 26, 2021 9:50 PM
farmers protestएक्टिविस्ट नवदीप कौर को जमानत मिल गई है। (ANI)

पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय ने शुक्रवार को श्रम अधिकार कार्यकर्ता नवदीप कौर को जमानत दे दी। 23 वर्षीय कार्यकर्ता ने अपनी जमानत याचिका में दावा किया था कि उन्हें 12 जनवरी को सोनीपत पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए जाने के बाद एक पुलिस थाने में गंभीर रूप से पीटा गया था। करीब छह सप्ताह पहले कौर को हत्या के प्रयास सहित कई आरोपों में एक आपराधिक मामला दर्ज किये जाने के बाद गिरफ्तार किया गया था। कौर को गत 12 जनवरी को हरियाणा के सोनीपत जिले में एक औद्योगिक इकाई का कथित तौर पर घेराव करने और एक कंपनी से धनराशि की मांग करने को लेकर गिरफ्तार किया गया था। पुलिस ने दावा किया था कि पुलिस की एक टीम पर कथित तौर पर डंडों से हमला किया गया था जिससे सात पुलिसर्किमयों को चोटें आयी थीं।

भारतीय दंड संहिता की धारा 307, 384, 148, 353 और 379 बी सहित कई धाराओं के तहत सोनीपत पुलिस द्वारा एक मामला दर्ज किया गया था। शुक्रवार को कौर की जमानत याचिका स्वीकार करते हुए जज ने कहा कि आईपीसी की धारा 307, 332, 353 और 379-बी लागू करने का मुद्दा एक ‘‘बहस का मुद्दा’’ होगा जिस पर सुनवायी के दौरान बाद में विचार किया जाएगा। न्यायाधीश ने अपने आदेश में कहा, ‘‘…कहना पर्याप्त होगा कि याचिकाकर्ता यह सुनिश्चित करने के लिए जमानत पर रहकर संयम बनाए रखेंगी कि उनके कार्यों के कारण कानून और व्यवस्था का कोई मुद्दा उत्पन्न नहीं हो।’’

एकल न्यायाधीश पीठ ने कहा कि अनीता ठाकुर और अन्य बनाम जम्मू कश्मीर सरकार और अन्य के मामले 2016, में उच्चतम न्यायालय का मानना है कि शांतिपूर्ण प्रदर्शन का अधिकार एक अधिकार है जिसका पता मौलिक अधिकार से चलता है लेकिन यह अधिकार उचित पाबंदियों के अधीन है।

आदेश के अनुसार, ‘‘इस अदालत के समक्ष रिकॉर्ड पर रखी गई सामग्री को देखते हुए, भारतीय दंड संहिता की धारा 307, 332, 353 और 379-बी लागू करने संबंधी मुद्दा एक बहस का मुद्दा होगा और इस पर सुनवायी के दौरान विचार किया जाएगा।’’

अदालत ने कहा, ‘‘याचिकाकर्ता 12 जनवरी से हिरासत में है। इस मामले की जांच चल रही है, लेकिन वह खुद याचिकाकर्ता को व्यक्तिगत स्वतंत्रता से वंचित करने के लिए पर्याप्त आधार नहीं होगा।’’ कौर के वकील ने कहा, ‘‘अदालत ने नवदीव कौर की जमानत याचिका स्वीकार कर ली। उच्च न्यायालय ने उन्हें जमानत दे दी है।’’

इस बीच, एक मेडिकल जांच रिपोर्ट के अनुसार, जिसे शुक्रवार को उच्च न्यायालय के समक्ष रखा गया था, कौर के शरीर पर चोट के निशान हैं। अदालत ने 24 फरवरी को हरियाणा राज्य को कौर की मेडिकल रिपोर्ट को रिकॉर्ड में रखने का निर्देश दिया था।सोनीपत की एक अदालत के आदेश पर 25 जनवरी को सोनीपत के सिविल अस्पताल में कौर का मेडिकल परीक्षण किया गया था।

Next Stories
1 राम मंदिर के लिए चंदा देने से रॉबर्ट वाड्रा का इनकार, कहा- जब चर्च, गुरुद्वारा, मस्जिद के लिए भी मांगा जाएगा दान, तभी दूंगा
2 केरल में ट्रेन से मिला भारी मात्रा में विस्फोटक, पकड़ी गई महिला, जिलेटिन की छड़ें-डेटोनेटर बरामद
3 राहुल गांधी और योगी आदित्यनाथ एक जैसे, केरल के सीएम ने कहा- हमारे खिलाफ इकट्ठा हो जाते हैं
ये पढ़ा क्या?
X