ताज़ा खबर
 

बाग़ी नेताओं को ‘आप’ ने भेजा कारण बताओ नोटिस, दो दिन में मांगा जवाब

आम आदमी पार्टी (आप) अपने अंसतुष्ट नेताओं योगेंद्र यादव और प्रशांत भूषण की प्राथमिक सदस्यता खत्म करने का फैसला किया है...

आम आदमी पार्टी (आप) अपने अंसतुष्ट नेताओं योगेंद्र यादव और प्रशांत भूषण की प्राथमिक सदस्यता खत्म करने का फैसला किया है। इसके पहले इन नेताओं को कारण बताओ नोटिस भेजा आएगा। इसकी तैयारी की जा रही है। पार्टी ने पहले उनके मामलों को राष्ट्रीय अनुशासन समिति को भेजा था और अब उनके खिलाफ आरोपों की सूची तैयार करने की प्रक्रिया चल रही है।

आप नेता आशुतोष ने पत्रकारों को बताया कि आप के राजनीतिक मामलों की समिति (पीएसी) ने योगेंद्र यादव, प्रशांत भूषण, प्रो आनंद कुमार और अजित झा की ओर से बुलाई गई स्वराज संवाद बैठक के बाद इन नेताओं के खिलाफ कार्रवाई का फैसला कर लिया है। दूसरी पार्टी बनाने की बात को पार्टी विरोधी मामला करार देकर इस मामले को अनुशासन समिति के पास भेज दिया था। अनुशासन समिति ने तय किया है कि इन नेताओं के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। आरोप पत्र तैयार किया जा रहा है। आशुतोष ने कहा कि शुक्रवार शाम तक नोटिस दे दिया जाएगा।

आप प्रवक्ता दीपक बाजपेयी ने कहा कि यादव, भूषण, आनंद कुमार व अजीत झा को दिए नोटिस में जो आरोप लगाए गए हैं, उनसे जुड़े प्रमाण भी उन्हें भेजे गए हैं। साथ ही, उनसे कहा गया है कि जवाब दो दिन के भीतर दें। हमने उन्हें मेल किया है और हाथ से भी प्रति सौंपी है। हालांकि योगेंद्र यादव ने किसी भी नोटिस के मिलने की बात से इनकार किया है।

आप नेता आशुतोष ने प्रशांत भूषण के उस बयान की निंदा की है जिसमें उन्होंने पीएसी की ओर से यादव, भूषण के मामलों को अनुशासन समिति को भेजे जाने को अवैध करार दिया था। आशुतोष ने कहा राष्ट्रीय स्तर की अनुशासन समिति पर सवाल खड़ा करना कहीं से ठीक नहीं है। पिछले महीने राष्ट्रीय परिषद की बैठक में इन चारों नेताओं को पार्टी की शीर्ष इकाइयों से हटा दिया गया था। पिछले महीने तक भूषण ही अनुशासन समिति के अगुवा थे, लेकिन बाद में उन्हें इस समिति के अध्यक्ष पद से भी हटा दिया गया।

तीन सदस्यीय अनुशासन समिति के मुखिया अब दिनेश वाघेला हैं। इस समिति के अन्य सदस्यों में पंकज गुप्ता और आशीष खेतान हैं। यह सभी अरविंद केजरीवाल के करीबी माने जाते हैं। इस समिति ने कहा है कि नोटिस देने के 48 घंटे के भीतर अगर वे चारों अनुशासन समिति के सामने आकर अपना पक्ष नहीं रखते हैं तो समिति उनके खिलाफ आरोप पत्र पर कार्रवाई करेगी। और पार्टी से इन चारों नेताओं की प्राथमिक सदस्यता खत्म कर दी जाएगी।

नोटिस तो हमें मिला नहीं : योगेंद्र यादव

योगेंद्र यादव ने नोटिस के सवाल पर कहा कि वे तो पिछले तीन दिन से यह सुनते आ रहे हैं कि हमें नोटिस भेजा जाएगा। पर कौन भेज रहा है, कहां से आ रहा है, कुछ पता नहीं। अभी तक तो कोई भी नोटिस नहीं आया है। उन्होंने कहा है कि जब नोटिस आएगा तब देखेंगे कि क्या करना है अभी तक उस बारे में कुछ नहीं सोचा है।

उधर, आप के नेता आशुतोष ने संभावना जताई है कि शाम तक नोटिस भेजा जा चुका है। इस बारे में पुष्टि के लिए उन्होंने आप नेता और अनुशासन समिति के सदस्य पंकज गुप्ता से बात करने को कहा। पंकज गुप्ता से बात करने की कई बार कोशिश की, पर उन्होंने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी, बल्कि फोन बंद कर दिया।

For Updates Check Hindi News; follow us on Facebook and Twitter

Next Stories
1 मानहानि के दो मामलों में केजरीवाल को राहत
2 योगेंद्र यादव और प्रशांत भूषण को आखिरी नोटिस भेजने की तैयारी में ‘आप’
3 आप के घर झगड़ा भारी: नहीं दिखती सुलह की कोई सूरत
यह पढ़ा क्या?
X