ताज़ा खबर
 

दिल्ली के पूर्व उप राज्यपाल पर केस करेगी आप, पद छोड़ने के बाद भी जारी रहेगी नजीब जंग से अरविंद केजरीवाल की जंग

एक इंटरव्यू में जंग ने कहा था कि शुंगलू कमेटी ने पाया है कि केजरीवाल सरकार ने कई ऐसे फैसले लिए हैं जिसमें ऐसा लगता है कि मुख्यमंत्री ने भाई भतीजावाद और पक्षपात किया है।

Author January 13, 2017 1:21 PM
नजीब जंग और अरविंद केजरीवाल के बीच अभी जंग जारी रह सकती है।

दिल्ली के पूर्व उप राज्यपाल और आम आदमी पार्टी प्रमुख अरविंद केजरीवाल के बीच अभी भी सियासी जंग जारी है। आम आदमी पार्टी (आप) दिल्ली के पूर्व उप राज्यपाल नजीब जंग पर मानहानि का मुकदमा करेगी। पार्टी ने नजीब जंग पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की छवि बिगाड़ने का आरोप लगाया है। दरअसल, दिल्ली के पूर्व उप राज्यपाल नजीब जंग ने इंडिया टुडे को दिए इंटरव्यू में कहा था कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर आपराधिक मुकदमा चल सकता है क्योंकि केजरीवाल पर कई फैसलों में पक्षपात को बढ़ावा देने के आरोप हैं। इंटरव्यू में जंग ने कहा था कि शुंगलू कमेटी ने पाया है कि केजरीवाल सरकार ने कई ऐसे फैसले लिए हैं जिसमें ऐसा लगता है कि मुख्यमंत्री ने भाई भतीजावाद और पक्षपात किया है।

नजीब जंग के मुताबिक केजरीवाल ने लोगों की जासूस कराने के लिए आईबी जैसा सीक्रेट यूनिट बनाया ताकि वो लोगों की जासूसी करवा पाएं। इंटरव्यू में जंग ने कहा कि निकुंज अग्रवाल को केजरीवाल ने दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सतेंद्र जैन का ओएसडी बनाया जो कि सीएम की पत्नी के रिश्तेदार हैं। जंग ने कहा कि केजरीवाल ने सतेंद्र जैन की बेटी सौम्या को ही मोहल्ला क्लीनिक का सलाहकार भी नियुक्त किया था। स्वाति मालीवाल को भी केजरीवाल का रिश्तेदार बताया जाता है जिन्हें केजरीवाल ने दिल्ली महिला आयोग का अध्यक्ष बनाया है।

गौरतलब है कि केजरीवाल सरकार के फैसलों की जांच के लिए पूर्व उप राज्यपाल नजीब जंग ने शुंगलू कमेटी का गठन किया था। इनमें दो मामलों में सीबीआई ने भी एफआईआर दर्ज की है। वही सतेंद्र जैन ने अपनी बेटी को सलाहकार बनाए जाने के फैसले का बचाव करते हुए कहा था कि सौम्या को इसके लिए कोई पैसा नहीं दिया जाएगा। नजीब जंग ने दिल्ली वक्फ बोर्ड में नियुक्ति को लेकर पर केजरीवाल की मंशा पर सवाल उठाए। जब जंग से सवाल पूछा गया कि क्या केजरीवाल पर इसके लिए आपराधिक केस भी हो सकता है तो जंग ने कहा कि हां ऐसा संभव है कि उन पर ऐसे केस हो सकते हैं।

दिल्ली सरकार की फाइल को उपराज्यपाल अनिल बैजल ने वापिस लौटाया; DTC बस किराए को 70% तक घटाने का था प्रस्ताव

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X