scorecardresearch

नई दिल्लीः मुंडका अग्निकांड पर राजनीति, आप नेता ने बिल्डिंग मालिक के साथ पूर्व मेयर की तस्वीर पोस्ट कर लगाया बीजेपी पर आरोप, आए ऐसे कमेंट्स

13 मई की शाम पश्चिमी दिल्ली में मुंडका मेट्रो स्टेशन के पास एक तीन मंजिला इमारत में भीषण आग लग गई, जिसमें 27 लोगों की जान चली गई। 7 घंटे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया जा सका था।

durgesh pathak| mundka fire| bjp
आप नेता दुर्गेश पाठक (Source- screengrab/ twitter)

मुंडका अग्निकांड के लिए आम आदमी पार्टी ने बीजेपी को जिम्मेदार ठहराया है। आप नेता दुर्गेश पाठक ने भारतीय जनता पार्टी पर आरोप लगाते हुए दावा किया कि भाजपा के बिल्डिंग के मालिक मनीष लाकड़ा से संबंध हैं। पाठक ने मनीष का बीजेपी नेता के साथ फोटो भी शेयर किया है। जिसे देखकर सोशल मीडिया पर लोगों ने तरह-तरह के रिएक्शन दिए।

दुर्गेश ने जो फोटो शेयर की है उसमें उन्होंने दावा किया है कार चला रहा शख्स मनीष लाकड़ा है। वहीं कार में बगल की सीट पर नॉर्थ MCD के पूर्व मेयर और बीजेपी नेता मास्टर आजाद सिंह बैठे हैं। आप नेता ने आरोप लगाया है कि मनीष लाकड़ा बीजेपी के संरक्षण में मुंडका में अपनी फैक्ट्री अवैध रूप से चला रहा था।

लोगों ने दिए रिएक्शन: मुकेश शर्मा (@firstmukes) नाम के एक यूजर ने इस तस्वीर को देखकर लिखा, “इन बीजेपी वालों ने दिल्ली और देश को बरबाद करने का मन बना लिया है। लुटेरा पार्टी के लिए देश के लोगों की जान की कीमत जीरो है। पहले पूरे देश को कोरोना के समय अपनी गलत हरकतों से लाखों की मौत को अंजाम दिया और अब भ्रष्ट एमसीडी रोज हत्या कर रही है।”

वहीं, नवीन कुमार (@nvn1980) नाम के यूजर ने ट्वीट किया, “सब ये नेता एक जैसे है कोई भी अपनी गिरेबां में झांकता नही है एक दूसरे पर आरोप लगाते है परेशान होता है तो सिर्फ आम आदमी। पर ये सब है खास आदमी।”

दरअसल, दुर्गेश पाठक ने भाजपा नेताओं के साथ आरोपी मनीष लाकड़ा की तस्वीर पेश कीं। पाठक ने आरोप लगाया कि एमसीडी ने लाकड़ा के बीजेपी साथ संबंधों के कारण बिल्डिंग में अवैध गतिविधि की अनुमति दी थी। उनकी मौत के लिए सिर्फ और सिर्फ बीजेपी शासित एमसीडी जिम्मेदार है।

नियमों को ताक पर रख लाइसेंस जारी: आप नेता ने कहा कि 2016 में एमसीडी ने सभी नियमों को ताक पर रखते हुए फैक्ट्री लाइसेंस जारी किया। कुछ महीनों बाद शिकायत मिलने पर एमसीडी को लाइसेंस रद्द करना पड़ा, लेकिन चोरी-छुपे अंदर सभी काम चलते रहे। दुर्गेश पाठक ने कहा कि 2018 में सुप्रीम कोर्ट की मॉनिटरिंग कमेटी के सील करने के बावजूद इमारत में अब तक इंडस्ट्रियल गतिविधियां जारी रहीं। उन्होंने पूरी घटना की जांच और इमारत के मालिक और उससे जुड़े भाजपा के सभी लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की।

पढें राज्य (Rajya News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट