scorecardresearch

Gujarat Election 2022: गुजरात में कांग्रेस और बीजेपी एक ही टीम में- बोले AAP प्रदेश अध्यक्ष, CM फेस और हार्दिक पटेल पर दिया ये जवाब

दिसंबर 2021 में आप कार्यकर्ताओं के साथ 11 दिन के लिए जेल जाने पर गोपाल ने कहा कि हम अपराधी नहीं हैं, लेकिन जब हमने राजनीति में कदम रखा तो हम मानसिक रूप से इन सबका सामना करने के लिए तैयार थे।

gopal italia| AAP| gujarat elections
आम आदमी पार्टी के गुजरात अध्यक्ष गोपाल इटालिया (photo source- twitter/ @Gopal_Italia)

गुजरात विधानसभा चुनाव में 6 महीने बचे हैं, ऐसे में आम आदमी पार्टी के गुजरात अध्यक्ष गोपाल इटालिया के पास पार्टी के पुराने और नए नेताओं के बीच संतुलन बनाए रखने के साथ-साथ जमीनी स्तर पर करने के लिए काफी काम है। ‘इंडियन एक्सप्रेस’ से एक इंटरव्यू में गोपाल ने गुजरात में तीसरा मोर्चा बनाने के लिए पार्टी के प्रयासों के बारे में बात की।

सीएम फेस की घोषणा नहीं करना चाहते: गुजरात में आप का सीएम फेस कौन होगा? इस सवाल पर गोपाल इटालिया ने कहा कि इस सवाल का जवाब देना जल्दबाजी होगी। चुनाव आयोग ने अभी तक चुनाव की तारीखों की घोषणा भी नहीं की है। हम चुनाव से छह महीने पहले सीएम चेहरे की घोषणा नहीं करना चाहते हैं। हार्दिक पटेल को आप में शामिल करने के सवाल पर अआप प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि सिर्फ हार्दिक ही क्यों? हम चाहते हैं कि सभी फ़ाइटर्स आप में शामिल हों, लेकिन यह पूरी तरह से उनका अधिकार है कि वे कहां जाना चाहते हैं।

हार्दिक के संपर्क में: कांग्रेस में रहते हुए हार्दिक से संपर्क करने की कोशिश के सवाल पर गोपाल ने कहा कि कोशिश क्यों? मैं हार्दिक के संपर्क में हूं। हम दोनों एक ही समुदाय के हैं और कई बार सार्वजनिक समारोहों में एक दूसरे से टकरा जाते हैं। उन्होंने कहा कि आप किसी का भी स्वागत करने के लिए तैयार है जो लोगों के हक के लिए और भाजपा के कठोर शासन के खिलाफ लड़ने को तैयार हैं।

कांग्रेस और बीजेपी एक ही टीम: गोपाल इटालिया ने कहा कि बीजेपी और कांग्रेस ए टीम और बी टीम नहीं हैं। वे गुजरात में एक टीम हैं। गांव, तालुका और जिला स्तर पर एक दूसरे के साथ उनकी अंडरस्टैंडिंग है। जब आप बीजेपी के साथ बैकरूम डील करते हैं तो आप विपक्ष के रूप में कैसे खड़े हो सकते हैं?

हमारी राजनीति हमारी विशिष्टता: गुजरात में बीजेपी पिछले 27 सालों से सत्ता में है। उनकी चुनावी पिच हिंदुत्व और शासन है। कांग्रेस ने सोशल इंजीनियरिंग की राजनीति की है। ऐसे में यहां आप की राजनीति क्या है? इस सवाल के जवाब में गोपाल इटालिया ने कहा कि हमारी राजनीति हमारी विशिष्टता है। हमारे पास राजनीति करने के लिए शिक्षा, स्वास्थ्य सेवा, बिजली और नियमित जल आपूर्ति जैसे वास्तविक मुद्दे हैं। बीजेपी और कांग्रेस के ध्रुवीकरण और सोशल इंजीनियरिंग की राजनीति से आम आदमी को कैसे फायदा होगा? हम कुछ ऐसा पेश कर रहे हैं जो इन दोनों पार्टियों में से किसी के पास नहीं है – काम की राजनीति।

आप की गुजरात इकाई में एक भी नेता ऐसा नहीं है जिसे शासन का कोई अनुभव हो। अगर कल आप की सरकार बनती है तो क्या पार्टी दिल्ली और पंजाब से अनुभवी लोगों को यहां लाएगी? इस सवाल का जवाब देते हुए गोपाल इटालिया ने कहा कि जब हमने पहली बार 2013 में दिल्ली में अपनी सरकार बनाई थी तो हममें से किसी को भी शासन का कोई अनुभव नहीं था। अनुभव होना अच्छी बात है, इससे हमेशा फायदा होता है, लेकिन अनुभव के साथ-साथ अच्छी नीयत भी होनी चाहिए।

उन्होंने आगे कहा कि भाजपा और कांग्रेस दोनों के पास शासन में 30-40 से ज्यादा सालों का अनुभव है। उन्होंने लोगों के लिए क्या अच्छा किया? गुजरात में हमारी टीम के इरादे अच्छे हैं जबकि दिल्ली और पंजाब में हमारी पार्टी के पास भी अनुभव है।

सीआर पाटिल असली मुखिया: राजकोट और मेहसाणा में दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल के भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सीआर पाटिल पर हमला करने और उन्हें गुजरात का वास्तविक सीएम बताने को आप की रणनीति का हिस्सा मानने के सवाल पर AAP प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि हमें पाटिल को क्यों निशाना बनाना चाहिए? यह भाजपा ही है जिसने मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल को अंडरग्राउंड कर दिया है और पाटिल को राज्य सरकार के साथ-साथ केंद्र की ओर से घोषणाएं करते हुए गुजरात में घूमने की अनुमति दी है। पाटिल कौन हैं जो यह घोषणा कर रहे हैं?

उन्होंने आगे कहा कि जब बीजेपी ने ही लोगों से साफ कह दिया है कि उनका मुख्यमंत्री और उनका मंत्रिमंडल बेकार है और सीआर पाटिल असली मुखिया हैं, तो क्या हमें इस पर ध्यान नहीं देना चाहिए?

किसी समुदाय को निशाना बनाना या लुभाना नहीं: आम आदमी पार्टी के गुजरात में 850 नए पदाधिकारियों की नियुक्ति के उद्देश्य के सवाल का जवाब देते हुए आप प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि यह पार्टी का गुजरात में विस्तार करने के लिए नियमित फेरबदल है। हमने गुजरात के लिए जिस तरह के काम की योजना बनाई है, उसके लिए यह पुनर्गठन जरूरी था। पार्टी आलाकमान के पूरी गुजरात इकाई को भंग करने के बावजूद उन्हें छोड़ देने के सवाल पर गोपाल ने कहा कि मैं पार्टी का आभारी हूं। मैं एक आम आदमी हूं जिसकी कोई राजनीतिक महत्वाकांक्षा या विशेषज्ञता नहीं है।

पाटीदार समुदाय तक पहुंचने की कोशिश के सवाल पर गोपाल ने कहा कि हम सिर्फ अपना काम कर रहे हैं और हम यहां किसी समुदाय को निशाना बनाने या लुभाने के लिए नहीं हैं। गुजरात में बीजेपी और कांग्रेस सालों से यही कर रही हैं।

पढें राज्य (Rajya News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट

X