ताज़ा खबर
 

गरीब बच्चों को रेस्तरां से किया बाहर तो सरकार ने दिए जांच के आदेश, लाइसेंस होगा रद्द?

नई दिल्ली के डीएम को जांच और 24 घंटे के भीतर रिपोर्ट सौंपने का आदेश दिया गया है।’ अपने पति का जन्मदिन मनाने के लिए लेखिका सोनाली शेट्टी सड़कों पर गुजर बसर करने वाले कुछ बच्चों को खाना खिलाने रेस्तरां ले गईं।
Author नई दिल्ली | June 13, 2016 03:39 am
आम आदमी पार्टी के प्रमुख और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल। (फाइल फोटो)

कनॉट प्लेस में एक नामी रेस्तरां ने एक महिला के साथ जा रहे आर्थिक रूप से कमजोर बच्चों को अपने यहां प्रवेश देने से मना कर दिया जिसके बाद दिल्ली सरकार ने जांच का आदेश दिया है। उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने घटना को ‘औपनिवेशिक मानसिकता’ का उदाहरण बताया और कहा कि अगर रेस्तरां के खिलाफ आरोप सही पाया गया तो उसका लाइसेंस रद्द किया जाएगा।

उन्होंने कहा, ‘अगर आरोप सत्य पाया गया तो दिल्ली सरकार रेस्तरां का लाइसेंस रद्द करेगी।’ सिसोदिया ने कहा कि नई दिल्ली के जिला मजिस्ट्रेट को घटना की जांच करने और 24 घंटे के भीतर एक रिपोर्ट पेश करने को कहा है। उन्होंने एक ट्वीट ने कहा, ‘यह औपनिवेशिक मानसिकता का स्पष्ट उदाहरण है। इसे बर्दाश्त नहीं किया जा सकता।

नई दिल्ली के डीएम को जांच और 24 घंटे के भीतर रिपोर्ट सौंपने का आदेश दिया गया है।’ अपने पति का जन्मदिन मनाने के लिए लेखिका सोनाली शेट्टी सड़कों पर गुजर बसर करने वाले कुछ बच्चों को खाना खिलाने रेस्तरां ले गईं। लेकिन रेस्तरां के कर्मचारी ने कथित तौर पर उन्हें भीतर प्रवेश करने से रोक दिया। उन्होंने कहा, ‘मैं कमजोर तबके के आठ बच्चों को लेकर शिवसागर रेस्तरां गईं लेकिन वहां कर्मचारी ने हमें खाना देने से इनकार कर दिया। मेरा मजाक बनाया गया और रेस्तरां से दूर जाने की धमकी दी गई।’

शिवसागर रेस्तरां के प्रबंधक ने कई प्रयासों के बाद भी फोन कॉल और मैसेज का जवाब नहीं दिया। नई दिल्ली के जिला मजिस्ट्रेट ने आज सुबह रेस्तरां का दौरा किया और उसके कर्मचारियों से पूछताछ की। रेस्तरां के एक कर्मचारी ने कहा, ‘डीएम ने रेस्तरां के वेटरों और अन्य कर्मचारियों से कल की घटना के बारे में पूछताछ की और इसे दर्ज किया।’

पूरी घटना को समाज की ‘नाकामी’ बताते हुए सोनाली ने कहा कि उन्होंने करीब 12 बजे तक रेस्तरां के सामने 10 घंटे से ज्यादा समय तक विरोध प्रदर्शन किया लेकिन कुछ नहीं हुआ। उन्होंने कहा, ‘मैं उन बच्चों के साथ रविवार की शाम फिर रेस्तरां जाऊंगी और वहां से खाना खरीदूंगी।’ साथ ही कहा कि जब तक रेस्तरां बच्चों से माफी नहीं मांगता वह लड़ाई लड़ती रहेंगी। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि उनके कॉल पर रेस्तरां आए पुलिसकर्मियों ने उनकी मदद करने की बजाए डांटते हुए बच्चों को कहीं दूसरी जगह ले जाने को कहा। सोनाली के पति भारतीय सेना में हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. K
    Kumar
    Jun 13, 2016 at 8:16 am
    सस्ती लोकप्रियता ोरने का अमीरों का गरीबों के लिए एक और नया तांडव (ढकोसला)।
    (0)(1)
    Reply
    1. A
      ashish panwar
      Jun 14, 2016 at 9:49 am
      तू क्यों नहीं तरय करता अगर इससे सस्ती लोकप्रियता कहते हैं तू तुझे क्या कहते होंगे log
      (0)(0)
      Reply
    2. S
      S
      Jun 13, 2016 at 7:19 am
      most of aap so called leaders are kind of dictator mentality. an he suspend license? How? Does restaurant license has preconditions? What I think, restaurants can refuse service to any one at its convenience.And not because you think, what it should be. If Manish said this, he is just a teen-age street boy reacting to silly things.
      (0)(1)
      Reply