ताज़ा खबर
 

AAP छोड़ BJP में शामिल हुए थे 2 विधायक, केजरीवाल ने विधानसभा अध्यक्ष से की दोनों को अयोग्य ठहराने की मांग

आप ने भाजपा में शामिल दो विधायकों को अयोग्य ठहराने की मांग को लेकर दिल्ली विधानसभा अध्यक्ष से संपर्क किया। पार्टी प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने इन विधायकों की सदस्ता रद्द करने की मांग की है।

Author नई दिल्ली | June 20, 2019 10:00 AM
आप पार्टी चिन्ह फोटो सोर्स – इंडियन एक्सप्रेस

आम आदमी पार्टी (आप) ने लोकसभा चुनाव से ठीक पहले भाजपा में शामिल हुए अपने दो असंतुष्ट विधायकों को अयोग्य ठहराने की मांग को लेकर दिल्ली विधानसभा अध्यक्ष से बुधवार (19 जून) को संपर्क किया। पार्टी प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने यह जानकारी दी। आप के दो विधायक अनिल वाजपेयी और देविंदर सहरावत खुलेआम पार्टी के आलोचक थे और लोकसभा चुनाव से पहले वह भाजपा में शामिल हो गए थे। भारद्वाज ने पुष्टि की कि इन असंतुष्ट विधायकों के खिलाफ अर्जी दी गई है और इनकी सदस्यता समाप्त करने की मांग की गई है।

अध्यक्ष की तरफ से मिला नोटिसः वहीं देविंदर सहरावत ने कहा कि उन्हें अध्यक्ष की तरफ से नोटिस प्राप्त हुआ है। उन्होंने कहा, ‘वर्तमान कानूनों के तहत, उन्होंने (आप) उचित नोटिस जारी नहीं किया है। भाजपा के मंच पर भी मैंने कहा था कि मैंने पार्टी की सदस्यता नहीं ली है… मेरी अयोग्यता की मांग करने के लिए एक उचित प्रक्रिया है और मुझे आप से कोई नोटिस नहीं मिला है।’ जानकारी के मुताबिक विधायको से 24 जून तक जवाब देने को कहा गया है।

National Hindi News, 20 June 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की हर खबर पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक

नहीं पड़ेगी उपचुनाव की जरूरतः  प्राप्त जानकारी के मुताबिक यदि दोनों विधायक अयोग्य घोषित किए जाते हैं तो भी उपचुनाव की जरूरत नहीं पड़ेगी, क्योंकि  6 महीने बाद दिल्ली में आम चुनाव होने वाले हैं। बता दें देविंदर सहरावत लोकसभा चुनाव से पहले भाजपा पार्टी में शामिल हुए थे। वे केंद्रीय मंत्री  विजय गोयल की उपस्थिति में भाजपा में शामिल हुए थे। देविंदर सहरावत नई दिल्ली के विजवासन से विधानसभा क्षेत्र के विधायक हैं। वहीं अनिल वाजपेयी गांधी नगर सीट से विधायक हैं। उन्होंने भाजपा के  राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्याम जाजू और केंद्रीय मंत्री विजय गोयल की उपस्थिति में पार्टी की सदस्ता ली थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App