ताज़ा खबर
 

एक और नेता ने छोड़ा ‘AAP’ का दामन, सीएम अरविंद केजरीवाल को सौंपा इस्‍तीफा

एच एस फुल्का शुक्रवार को शाम 4 बेज दिल्ली के प्रेस क्लब में मीडिया ब्रीफिंग के जरिए विस्तार से इस्तीफे के कारणों की जानकारी देंगे।

वरिष्ठ नेता और वकील एचएस फुल्का। (Express Photo by Gurmeet Singh)

गुरुवार (3 जनवरी 2019) को आम आदमी पार्टी (AAP) के वरिष्ठ नेता और वकील एचएस फुल्का ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है। फुल्का ने ट्विट कर जानकारी दी कि, उन्होंने दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) को अपना इस्तीफा सौंपा दिया है। इसके साथ ही उन्होंने बताया कि वे शुक्रवार को शाम 4 बेज दिल्ली के प्रेस क्लब में मीडिया ब्रीफिंग के जरिए विस्तार से कारणों की जानकारी देंगे।

दरअसल, इस साल लोकसभा चुनाव के लिए कांग्रेस और आप के बीच गठबंधन की संभावना को लेकर चल रही अटकलों के बीच यह कदम सामने आया है। फूलका ने एक ट्वीट कर कहा कि वह शुक्रवार को दिल्ली में एक प्रेस ब्रीफिंग में इस कदम के पीछे की वजह बताएंगे। उन्होंने ट्विटर पर लिखा, ‘मैंने आप से इस्तीफा दे दिया और आज केजरीवाल जी को इस्तीफा सौंप दिया। हालांकि उन्होंने मुझे इस्तीफा ना देने के लिए कहा लेकिन मैं अटल रहा। कल शाम चार बजे नयी दिल्ली के रायसीना रोड पर प्रेस क्लब में मीडिया को आप छोड़ने की वजह और आगे की योजनाओं के बारे में बताऊंगा।’

वहीं आप ने कांग्रेस के साथ गठबंधन की संभावनाओं को खारिज नहीं किया। आप ने कहा कि उनकी राजनीतिक मामलों की समिति दिल्ली, पंजाब और हरियाणा के कायकर्ताओं तथा अपने नेताओं की राय पर विचार करने के बाद कोई फैसला लेगी। पूर्व कांग्रेस नेता सज्जन कुमार को दिल्ली उच्च न्यायालय ने सिख रोधी दंगा मामले में हाल ही में दोषी ठहराया। फूलका ने इस मामले में पीड़ितों की ओर से पैरवी की।

बता दें कि एच एस फुल्का पहले भी एक बार इस्तीफा दे चुके हैं लेकिन अरविंद केजरीवाल के कहने पर वह मान गए थे। एचएस फुलका मार्च 2017 में पंजाब में नेता विपक्ष बने थे, लेकिन कुछ ही समय बाद उन्होंने नेता विपक्ष पद से यह कहकर इस्तीफा दे दिया था कि वह 1984 के केस पर फोकस करना चाहते हैं। एच एस फुल्का से पहले आम आदमी पार्टी के जिला जत्थेबंदक सचिव गगनदीप ¨सह गग्गु कलानौर ने कुछ दिन पहले (29 दिसंबर 2018) आप के नेता व सांसद भगवंत मान की नीतियों से तंग आकर पार्टी को छोड़ने की घोषणा की थी। गगनदीप ¨सह ने कहा कि भगवंत मान द्वारा समय-समय पर पार्टी को अघात करने वाले बयान व शराब पीने की घटनाओं संबंधी चर्चा में रहने के कारण उन्होंने आम आदमी पार्टी को सदा के लिए अलविदा कहते हुए भगवंत मान को इस्तीफा भेज दिया है।

Next Stories
1 लिव-इन पार्टनर के बीच सहमति से बना शारीरिक संबंध रेप नहीं: सुप्रीम कोर्ट
2 राफेल वॉर : राहुल ने पीएम मोदी से 4 की जगह 3 ही सवाल पूछे, ट्रोल हुए तो लिखा- जानबूझकर ऐसा किया
3 13वें रामनाथ गोयनका पत्रकारिता पुरस्कार समारोह के मुख्य अतिथि होंगे राजनाथ सिंह
ये पढ़ा क्या?
X