ताज़ा खबर
 

AAP विधायकों के वॉट्सऐप ग्रुप से फिर हटाई गईं अल्का लांबा, स्क्रीनशॉट शेयर करके पूछा- मेरा क्या दोष

आम आदमी पार्टी की विधायक अलका लांबा को पार्टी के विधायकों के ग्रुप से हटा दिया गया है। पार्टी से नाराज चल रही विधायक ने इस बात पर आपत्ति जताई है।

अलका लांबा (बाएं) ने ओडिशा के सीएम की जीत पर दी थी बधाई। (फाइल फोटो)

आम आदमी पार्टी से नाराज चल रहीं चांदनी चौकी की पार्टी विधायक अलका लांबा ने शनिवार को दावा किया कि उन्हें पार्टी विधायकों के व्हाट्सऐप ग्रुप से एक बार फिर हटा दिया गया है। इस व्हाट्सऐप ग्रुप में पार्टी प्रमुख अरविंद केजरीवाल भी शामिल हैं।

लांबा ने दावा किया कि ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक को पांचवे कार्यकाल के लिये मिली जीत पर उन्हें बधाई देने की वजह से उन्हें (लांबा को) व्हाट्सऐप ग्रुप से हटा दिया गया। उन्होंने कहा कि इस तरह का कदम आप नेतृत्व के लिये ठीक नहीं है। उन्होंने कहा कि केजरीवाल ने उनसे माफी मांगने को कहा था। इससे इनकार करने के बाद उन्हें व्हाट्सऐप ग्रुप से हटा दिया गया।

व्हाट्सऐप ग्रुप का स्क्रीनशॉट ट्विटर पर साझा करते हुए उन्होंने केजरीवाल की निंदा की और पूछा कि आखिर उन्हें ही क्यों लोकसभा चुनावों में मिली पार्टी की हार का जिम्मेदार ठहराया जा रहा है। इस स्क्रीनशॉट में यह साफ दिख रहा है कि उत्तर पूर्वी दिल्ली से आप के उम्मीदवार रहे दिलीप पांडे ने उन्हें हटाया है।

अलका ने ट्वीट कर अपने इस्तीफा देने की खबर खारिज की। अलका ने कहा कि अभी तो चाँदनी चौक विधानसभा क्षेत्र की जनता के साथ किये गए वायदे पूरे करने के लिये 7 महीनें बचे हुए हैं-तब तक नही। इससे पहले पांडे ने हालांकि इस मामले में कोई जवाब नहीं दिया। केजरीवाल पर भड़कते हुए लांबा ने कहा कि उन लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए जो बंद कमरे में तमाम फैसले लेते हैं।

उन्होंने ट्वीट किया, ‘गुस्सा मुझ पर कुछ यूं निकाला जा रहा है, अकेली मैं ही क्यों? मैं तो पहले दिन से ही यही सब कह रही थी जो आज हार के बाद आप (केजरीवाल) कह रहे हैं, कभी ग्रुप में जोड़ते हो,कभी निकालते हो,बेहतर होता इससे ऊपर उठकर कुछ सोचते, बुलाते,बात करते,गलतियों और कमियों पर चर्चा करते,सुधार कर के आगे बढ़ते।’

यह दूसरी बार है जब लांबा को ग्रुप से हटाया गया है। इससे पहले उन्हें पिछले साल दिसंबर में ग्रुप से हटाया गया था जब उन्होंने भूतपूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को दिए गए भारत रत्न सम्मान को रद्द करने के पार्टी के प्रस्ताव पर आपत्ति जतायी थी। हालांकि लोकसभा चुनाव प्रचार से पहले उन्हें ग्रुप में शामिल कर लिया गया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X