ताज़ा खबर
 

कभी ट्रक पर चढ़ा तो कभी पैदल सड़क नापी, छह दिनों में 1800 KM सफर कर बेंगलुरू से राजस्थान पहुंचा वेल्डर, जानें- सफरनामा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 24 मार्च को 21 दिन के लॉकडाउन का ऐलान किया था। इसके बाद हजारों लोग पैदल या अपने साधन से ही अपने नौकरी-काम वाले शहर छोड़कर गृहनगर जाने लगे।

लॉकडाउन के ऐलान के बाद लोग बड़े-बड़े शहरों से बड़ी संख्या में अपने गांव-कस्बों की तरफ पैदल ही निकल पड़े थे। (फोटो सोर्सः एपी)

कोरोनावायरस के खतरे के मद्देनजर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 24 मार्च को राष्ट्र के नाम संबोधन में देशभर में 21 दिन का लॉकडाउन लगाने का ऐलान किया था। पीएम ने लोगों से अपील की थी कि जो जहां है, वह वहीं रहे। हालांकि, दिहाड़ी मजदूरों और अप्रवासियों ने काम बंद होने की वजह से पैदल या अपने-अपने साधनों से ही गृहनगर की तरफ कूच कर दिया। अब तक सैकड़ों की संख्या में लोग अपने शहर-गांवों तक पहुंचने में सफल भी हुए हैं। ऐसी ही कहानी है राजस्थान के जालौर के रहने वाले प्रवीण की, जिसने कर्नाटक के बेंगलुरु से घर पहुंचने के लिए 6 दिन तक पैदल सफर किया।

द टेलिग्राफ की खबर के मुताबिक, 28 साल का प्रवीण कुमार बेंगलुरु में वेल्डर का काम करता है। लॉकडाउन के ऐलान के बाद काम बंद होने की वजह से उसने 26 मार्च की रात को घर के लिए यात्रा शुरू की थी। 6 दिन बाद 1 अप्रैल को वह 1800 किलोमीटर का सफर तय कर जालौर स्थित अपने गांव चितलवाना पहुंचा। प्रवीण ने द टेलिग्राफ को फोन पर अपनी पैदल यात्रा की पूरी जानकारी भी दी। जब प्रवीण से इतनी दूर तक पैदल चलने पर सवाल किया गया, तो उसने बताया कि हम राजस्थानी अपने खेतों में बहुत चलते हैं।

6 दिन में कैसे पूरा किया सफर?
26 मार्च को बेंगलुरु के शिवाजी नगर से पैदल सफर शुरू करने के बाद 27 मार्च की सुबह तक प्रवीण 70 किमी दूर तुमकुर तक पहुंच गया। इसके बाद 27 मार्च को ही रात तक एक एलपीजी कैरियर ट्रक की मदद से वह तुमकुर से 200 किमी दूर चित्रदुर्ग पहुंच गया। 28 मार्च को भी उसे रानेबेन्नूर तक 100 किमी के लिए ट्रक का सहारा मिल गया। रात तक उसने एक दूसरे ट्रक से 200 किमी दूर बेलगाम तक सफर पूरा किया। 29 मार्च को एक दिन आराम करने के बाद उसने ट्रक से ही 350 किमी दूर पुणे तक का सफर पूरा किया।

Coronavirus से जुड़ी जानकारी के लिए यहां क्लिक करें: कोरोना वायरस से बचना है तो इन 5 फूड्स से तुरंत कर लें तौबा | जानिये- किसे मास्क लगाने की जरूरत नहीं और किसे लगाना ही चाहिए |इन तरीकों से संक्रमण से बचाएं | क्या गर्मी बढ़ते ही खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस?

 30 मार्च को एक बार फिर आराम करने के बाद शाम को वह पुणे पहुंचाने वाले ट्रक में ही बैठकर गुजरात बॉर्डर तक पहुंचा। यहां से एक दूध के ट्रक में बैठकर उसने गुजरात का 650 किमी का सफर पार किया। 31 मार्च को अहमदाबाद में आराम करने के बाद उसने दूध के ट्रक से ही पालनपुर तक 145 की यात्रा तय की। इसके बाद सब्जी के एक ट्रक की बदौलत प्रवीण दीसा तक पहुंचा। यहां आने तक उसने 1745 किमी की यात्रा पूरी कर ली थी।

1 अप्रैल को ही उसने धनेरा तक 35 किमी पैदल चलर पार किया। 1 अप्रैल की शाम को एक वैन ने उसे 25 किमी आगे गुजरात-राजस्थान बॉर्डर पर स्थित नेनावना छोड़ दिया। इसके बाद पहले राजस्थान के सांचोर तक 18 किमी पैदल चल और फिर अपने गांव चितलवाना तक 23 किमी दोस्त की बाइक में सफर पूरा कर प्रवीण 1 अप्रैल की रात को घर पहुंचा।

Next Stories
1 Coronavirus in India State-Wise: 24 घंटे में देश में बढ़े कोरोना के 525 मामले, दिल्ली में लॉकडाउन उल्लंघन पर 66 हजार लोगों पर एफआईआर
2 लॉकडाउन में भी वारदात कर रहे अपराधी, ब‍िहार में द‍िनदहाड़े मर्डर
3 लॉकडाउन में चौपट हुआ धंधा, तीन दिन में 400KM साइकिल चला पहुंच गया गांव, ड्राइवर की आपबीती
आज का राशिफल
X