ताज़ा खबर
 

उत्तर प्रदेश: भाई की मौत का बदला लेने के लिए छात्रा ने पूरे स्कूल के खाने में मिला दिया जहर

बनकटा पुलिस स्टेशन के थाना प्रभारी देवेंद्र सिंह यादव ने बताया कि बौलिया जूनियर हाईस्कल की छात्रा के खिलाफ विभिन्न धाराओं में आपराधिक मुकदमा दर्ज किया गया है। छात्रा को बाल सुधार गृह भेज दिया गया है।

Author Published on: July 19, 2018 3:33 AM
इस तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

देवरिया जिले के एक जूनियर हाईस्कूल में वितरित होने वाले दोपहर के भोजन (मिड डे मील) की दाल में एक छात्रा ने जहर मिला दिया। वजह यह थी कि यह नाबालिग छात्रा अपने भाई की हत्या का बदला लेना चाहती थी। वक्त पर एक रसोइए की तत्परता से बड़ा हादसा टल गया। लड़की को गिरफ्तार कर बाल सुधारगृह भेज दिया गया है। उससे प्रारंभिक पूछताछ में पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि इस साजिश में कोई और तो शामिल नहीं है। स्थानीय पुलिस ने बुधवार को बताया कि कथित रूप से जहरीला पदार्थ मिलाने के आरोप में कक्षा सात की एक छात्रा को गिरफ्तार किया है। देवरिया के बनकटा पुलिस स्टेशन के बौलिया गांव में सरकारी जूनियर हाईस्कूल के प्रधानाचार्य की शिकायत पर यह मामला दर्ज किया गया है।

बनकटा पुलिस स्टेशन के थाना प्रभारी देवेंद्र सिंह यादव ने बताया कि बौलिया जूनियर हाईस्कल की छात्रा के खिलाफ विभिन्न धाराओं में आपराधिक मुकदमा दर्ज किया गया है। छात्रा को बाल सुधार गृह भेज दिया गया है। उन्होंने बताया कि छात्रा ने मध्याह्न भोजन में जहरीला पदार्थ इसलिए मिलाया था कि वह अपने भाई की मौत का बदला लेना चाहती थी। कक्षा तीन में पढ़ने वाले उसके भाई की इस साल दो अप्रैल को स्कूल के ही कक्षा पांच के एक छात्र ने हत्या कर दी थी। हत्या करने वाला छात्र इस समय बाल सुधार गृह में है। अपने भाई की हत्या का बदला लेने के लिए छात्रा ने कथित तौर पर मध्याह्न भोजन में जहर मिला कर सब लोगों को मारने का प्रयास किया था।

हालांकि, इस भोजन को कोई खाया ही नहीं था, क्योंकि स्कूल प्रशासन ने बच्चों को दोपहर का भोजन खाने से रोक दिया था। पुलिस ने बताया कि मंगलवार को करीब साढ़े दस बजे स्कूल की रसोइया राधिका जब बच्चों को चावल देने जा रही थी, तब उसने देखा कि आरोपी छात्रा संदिग्ध अंदाज में रसोई में गई। उसने देखा कि लड़की के हाथ में सफेद रंग का पाउडर था और बच्चों को जो सब्जी मिली हुई दाल परोसी जाने वाली थी, उसमें भी कुछ सफेद रंग का पाउडर पड़ा हुआ था। उसने दूसरे रसोइए की मदद से छात्रा को रसाईघर में बंद कर दिया और स्कूल के प्रिंसिपल भृगनाथ प्रसाद को इसकी सूचना दी। सूचना के बाद खाद्य विभाग, शिक्षा विभाग की टीम स्कूल पहुंची और दाल के नमूने परीक्षण के लिए प्रयोगशाला भेज दिए गए हैं, जहां से रिपोर्ट आने में तीन से चार दिन का समय लग सकता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 शाहबेरी इमारत हादसे में आठ की मौत, तीन गिरफ्तार
2 जवान का दर्द- देश के लिए गोली खाने को तैयार हूं, दबंगों से मेरे बीवी-बच्चों और मां को नहीं बचा रहे DM-SP
3 असम सरकार के बैन लगाने के वाबजूद भी मुंह पर काली पट्टी बांध गुवाहाटी पहुंचे प्रवीण तोगड़िया
जस्‍ट नाउ
X