ताज़ा खबर
 

चुनाव से पहले BJP की नई टीम में एपी अब्दुल्लाकुट्टी बने उपाध्यक्ष, पर पार्टी अंदरखाने में ही विरोध; RSS भी बोला- बाहरियों पर ध्यान, पर अंदर वाले नजरअंदाज

बीजेपी उपाध्यक्ष के रूप में ए पी अब्दुलकुट्टी की नियुक्ति पर राज्य के कई नेताओं ने सवाल उठाए हैं और इसका विरोध कर रहे हैं। पार्टी के अंदरूनी सूत्रों ने कहा कि राज्य के भाजपा नेताओं ने हाईकमान से इसकी शिकायत भी की है।

Author Edited By सिद्धार्थ राय नई दिल्ली | Updated: September 28, 2020 8:35 AM
vice president, RSSएपी अब्दुल्लाकुट्टी को पार्टी ने अपना राष्ट्रीय उपाध्यक्ष नियुक्त किया है। (file)

पिछले साल कांग्रेस छोड़ भाजपा में शामिल होने वाले एपी अब्दुल्लाकुट्टी को पार्टी ने अपना राष्ट्रीय उपाध्यक्ष नियुक्त किया है। अब्दुल्लाकुट्टी के अलावा केरल के एक और नेता टॉम वडक्कन को बीजेपी ने राष्ट्रीय प्रवक्ता नियुक्त किया है। लेकिन अब्दुल्लाकुट्टी को राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाए जाने के बाद पार्टी के अंदर ही विरोध शुरू हो गया है।

द इंडियन एक्सप्रेस में छपे लेख दिल्ली कॉन्फिडेंशियल के अनुसार, केरला में अगले साल विधानसभा चुनाव हैं। उससे पहले बीजेपी उपाध्यक्ष के रूप में ए पी अब्दुलकुट्टी की नियुक्ति पर राज्य के कई नेताओं ने सवाल उठाए हैं और पार्टी के इस फैसले का विरोध किया है। पार्टी के अंदरूनी सूत्रों ने कहा कि राज्य के भाजपा नेताओं ने हाईकमान से इसकी शिकायत भी की है।

इसपर केंद्रीय नेतृत्व का कहना है कि अब्दुल्लाकुट्टी और टॉम वडक्कन की नियुक्ति विधानसभा चुनाव से पहले “ऑपरेशन केरल” का हिस्सा है। इसपर राज्य के नेताओं का कहना है कि उन्हें लंबे समय से नजरअंदाज किया जा रहा है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) ने भी कहा है कि पार्टी बाहरियों पर ज्यादा ध्यान दे रही है और संगठन के लिए सालों से काम करने वालों को अनदेखी किया जा रहा है।

सीपीएम के दो बार के सांसद और फिर कांग्रेस के दो बार के विधायक रहे अब्दुल्लाकुट्टी पिछले साल भाजपा में शामिल हुए थे। इस साल की शुरुआत में उन्हें राज्य उपाध्यक्ष के रूप में नियुक्त किया गया था। अब्दुल्लाकुट्टी एसएफआई के प्रदेश अध्यक्ष थे और कन्नूर जिले से सीपीएम के नेता के रूप में उभरे। अब्दुल्लाकुट्टी ने जब पीएम नरेंद्र मोदी गुजरात के सीएम थे तब उनकी तारीफ की थी। जिसके बाद पार्टी ने उन्हें निष्कासित कर दिया था।

इसके बाद उन्होने कांग्रेस जॉइन की और दो बार कन्नूर विधानसभा क्षेत्र से विधायक बने। 2016 के विधानसभा चुनाव में उन्हें थालास्सेरी से हार का सामना भी करना पड़ा। 2019 में एक बार फिर उन्होने पीएम नरेंद्र मोदी की तारीफ करते हुए उन्हें ‘गांधीवादी’ कहा, जिसके बाद कांग्रेस ने भी उन्हें पार्टी से निकाल दिया। कांग्रेस से निष्कासित किए जाने के बाद अब्दुल्लाकुट्टी ने बीजेपी का दामन थामा है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 शोध: दुनिया में कम हो रहा भूजल स्तर जखनी की मेड़बंदी विधि ने बदले हालात सूखे खेतों में लहलहाईं फसलें, कुएं भरे
2 VIDEO: कृषि बिल पर लोगों के सवालों पर घिर गए भाजपा विधायक, नहीं दे पाए कोई जवाब; लोगों ने लगाए खट्टर सरकार-मुर्दाबाद के नारे
3 महाराष्ट्र: संजय राउत-फडणवीस मुलाकात के बाद मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से मिले एनसीपी चीफ शरद पवार
यह पढ़ा क्या?
X