ताज़ा खबर
 

बिहार: ‘स्‍वच्‍छ भारत’ के नाम पर सरकार को लगाया चूना, अलग-अलग ID दिखाकर हड़पा 42 शौचालयों का पैसा

बिहार के वैशाली जिले में शौचालय बनाने के नाम पर 3.49 लाख रुपये निकाल लिए।

Author नई दिल्‍ली | December 30, 2017 7:32 PM
शौचालय बनाने के नाम पर फर्जी तरीके से पैसे निकालने का मामला सामने आ चुका है। (Photo Courtesy: EXPRESS ARCHIVE)

‘स्‍वच्‍छ भारत’ के नाम पर सरकारी खजाने को चूना लगाने का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। ताजा मामला बिहार का है। एक व्‍यक्ति द्वारा फर्जी पहचान पत्र (ID) बनाकर सरकारी खजाने को चूना लगाने का मामला सामने आया है। आरोपी ने एक-दो नहीं बल्कि 42 बार शौचालय बनाने के नाम पर अलग-अलग पहचान पत्र दिखाकर फंड निकाल लिया। इस मामले के संज्ञान में आने पर सरकारी महकमा सकते में है। अब इस मामले की छानबीन की जा रही है। बिहार सरकार एक शौचालय बनाने के लिए 12 हजार रुपये की आर्थिक सहायता देती है।

जानकारी के मुताबिक, यह घटना वैशाली जिले के हाजीपुर सदर ब्‍लॉक की है। विष्‍णुपुर राम गांव निवासी योगेश्‍वर चौधरी ने घर में शौचालय बनवाने के नाम पर 42 बार सरकारी फंड निकाल लिया था। अधिकारियों ने बताया कि योगेश्‍वर हर बार अलग नाम से पहचान पत्र दिखाकर पैसा निकाल लेता था। इस अधिकारी की मानें तो आरोपी ने शौचालय बनाने के नाम पर 3.49 लाख रुपये की निकासी कर ली थी। यह मामला सिर्फ योगेश्‍वर तक ही सीमित नहीं रहा। विशेश्‍वर राम नामक एक अन्‍य व्‍यक्ति ने घर में शौचालय बनाने के नाम पर 91 हजार से ज्‍यादा रुपये निकाल लिए थे। वह अधिकारियों को 10 बार चकमा देने में कामयाब रहा था। दोनों ने इस फर्जीवाड़े को वर्ष 2015 के शुरुआत में अंजाम दिया था। अब जाकर इसका भेद खुला है।

सामाजिक कार्यकर्ता रोहित कुमार ने कलेक्‍टर से इस मामले में कार्रवाई करने और जांच का आदेश देने की मांग की है। वैशाली जिले के उप विकास आयुक्‍त (डीडीसी) सर्वनारायण यादव ने कहा कि इस मामले में इंजीनियरिंग विभाग के प्रमुख ही उचित जानकारी दे सकते हैं। उन्‍होंने बताया कि इस मामले में वह उच्‍चस्‍तरीय जांच के बाद ही कुछ बता सकेंगे। यह कोई पहला मामला नहीं है जब शौचालय बनाने के नाम पर सरकारी खजाने को चूना लगाया गया है। देश के विभिन्‍न हिस्‍सों से इस तरह की घटनाएं सामने आ चुकी हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App