ताज़ा खबर
 

बिहार: मामा की शादी में मुंबई से आया था इंजीनियर भांजा, बाराती ने गोली मार कर दी हत्या

डीएसपी के मुताबिक आरोपी हत्यारा भी बारात में आमंत्रित था और किसी तरह की रंजिश भी नहीं थी। ऐसा लगता है कि बारात में यूं ही गोली चलाने के फैशन की वजह से वारदात हुई हो।

इस तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

मुंबई से अपने मामा की शादी में शरीक होने आए इंजीनियर मो. गुलरेज आलम (27) की बारात में ही एक युवक ने गोली मारकर हत्या कर दी। यह वाकया बुधवार रात करीब 10 बजे का है। उस वक्त बारात शाहजंगी मेला मैदान के पास से गुजर रही थी। यह इलाका थाना हबीबपुर के तहत पड़ता है। चश्मदीद बताते हैं कि घटना से सभी बाराती सन्न रह गए और गोली मारने के बाद हत्यारा रिवाल्वर दिखाते हुए भागने में कामयाब हो गया। रंग में भंग की इस वारदात से शादी का माहौल मातम में बदल गया। सिटी डीएसपी शहरयार अख्तर ने आरोपी का नाम मो. मेहवाल बताया है। रात में पुलिस सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची और आरोपी के घर पर छापा मारा। मगर वह वहां नहीं मिला। उसका भाई भी रेलवे संबंधी अपराध का आरोपी है। वह भी घर से फरार था। घर में केवल औरतें ही थीं। जिनसे उसका सुराग नहीं मिला।

डीएसपी के मुताबिक आरोपी हत्यारा भी बारात में आमंत्रित था और किसी तरह की रंजिश भी नहीं थी। ऐसा लगता है कि बारात में यूं ही गोली चलाने के फैशन की वजह से वारदात हुई हो। मगर सवाल है कि गोली सामने से उसके (इंजीनियर) माथे पर दागी गई बताई जा रही है। वहीं गोली लगने के तुरंत बाद ही अचेत हुए गुलरेज को जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज अस्पताल में इलाज के लिए पहुंचाया गया। जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। इसके बाद तो दूल्हा-दुल्हन के परिवार वालों के चेहरे से फाख्ता उड़ गया। शादी का माहौल गमगीन हो गया। किसी तरह जल्दबाजी में निकाह संपन्न कराया गया। फिर दूल्हा समेत दोनों पक्षों के लोग और बाराती अस्पताल पहुंचे।

डीएसपी अख्तर के मुताबिक गुरुवार को दिन में लाश का पोस्टमार्टम कराके उनके परिवार वालों को सौंप दिया गया। मृतक गुलरेज भागलपुर जिले के पीरपैंती के सुंदरपुर गांव का रहने वाला था। वह मुंबई में मैकेनिकल इंजीनियर की नौकरी करता था। शादी में शरीक होने वह गांव आया था। बुधवार सुबह वह अपने चचेरे भाई मो. लड्डन और चाचा मो. शाहनवाज आलम के साथ अपने मामा मो. अरशद की बारात जाने भागलपुर के भतुबाड़ी ननिहाल आया था। यहीं से बारात बदरेआलमपुर मोहल्ले के मो. जमीर के घर जा रही थी। इस खुशी के माहौल में यह गमगीन वाकया हो गया। आरोपी मो. मेहवाल को भी मोहल्ले के पड़ोसी की वजह से बारात का न्योता दिया गया था। उसने किस वजह से गोली मार गुलरेज की जान ली यह समझ से परे है। परिवार वाले बताते हैं कि उसकी पहले से न कोई जान पहचान थी और न कोई लेना-देना था। अचनाक से हुई हत्या से सभी सकते में हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App