ताज़ा खबर
 

भैंसों का अवैध रूप से काटने में शामिल रहने के मामले में व्यक्ति गिरफ्तार

उत्तर प्रदेश के शामली जिले में भैंसों का अवैध रूप से वध करने में कथित रूप से शामिल रहने के मामले में एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया है।
इस तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

उत्तर प्रदेश के शामली जिले में भैंसों का अवैध रूप से वध करने में कथित रूप से शामिल रहने के मामले में एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया है। एक पुलिस अधिकारी ने आज बताया कि छापा मारने के दौरान शामली के गुलशन इलाके में कल व्यक्ति के घर से 13 भैंस जब्त की गयीं । अधिकारी ने बताया कि इसके बाद व्यक्ति के खिलाफ पशु क्रूरता रोकथाम अधिनियम के तहत एक मामला दर्ज किया गया और उसे गिरफ्तार किया गया। एक अलग घटना में, पुलिस ने कल शाम को शामली जिले के सिखेडा के टेस्सा गांव में एक घर से मांस जब्त किया और ऐसा संदेह है कि यह गाय का मांस है। पुलिस ने बताया कि नौ लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है और मांस के नमूने को परीक्षण के लिए प्रयोगशाला में भेज दिया गया है।

गौरतलब है कि यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार के अवैध बूचड़खानों को बैन करने के नक्शे कदम पर अब बाकी बीजेपी शासित राज्य भी चलने लगे हैं। मंगलवार को राजस्थान, उत्तराखंड, छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश सरकार ने अवैध बूचड़खानों और दुकानों को बंद करने के आदेश दे दिए थे, जिसके बाद हरिद्वार में 3, रायपुर में 11 और इंदौर पर 1 मीट की दुकान को सील कर दिया गया। वहीं जयपुर में लगभग 4,000 अवैध दुकानें बंद कर दी गईं। नगर निगम ने अप्रैल से ऐसी दुकानों और बूचड़खानों पर कार्रवाई की घोषणा की है। मीट बेचने वालों ने दावा किया है कि इन 4 हजार दुकानों में से 950 वैध थे, लेकिन कॉरपोरेशन ने पिछले साल 31 मार्च के अब तक उनका लाइसेंस रिन्यू नहीं किया है।

टाइम्स अॉफ इंडिया को जेएमसी के एक अधिकारी ने बताया कि लाइसेंस इसलिए नहीं रिन्यू किया जा सका, क्योंकि निकाय संस्था ने लाइसेंस फीस को 10 रुपये से बढ़ाकर 100 रुपये करने के प्रस्ताव पर मुहर लगा दी थी, लेकिन अब तक इसका गजट नोटिफिकेशन जारी नहीं किया गया है। न्यू जयपुर मीट असोसिएशन के अध्यक्ष अब्दुल रकुल ने बताया कि स्थानीय निकायों के निदेशालय ने लाइसेंस शुल्क में बढ़ोतरी की फाइल को क्लियर करके उसे वापस जेएमसी भेज दी थी। उन्होंने कहा कि यह हमारी गलती नहीं है। हमने लाइसेंस रिन्यू के लिए आवेदन दाखिल किया था, लेकिन उसे स्वीकार नहीं किया गया। हम जेएमसी के इस कदम का विरोध करेंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.