ताज़ा खबर
 

‘लाल गढ़’ में सीपीएम बेहाल, 15,000 रुपये किराए पर लगाया दफ्तर, ताकि निकल सके खर्चा

ऑसग्राम विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र के गुसकारा इलाके के माकपा नेता ने कहा, "हमारे पास दो कार्यालय एक-दूसरे से थोड़ी दूरी पर हैं। हमें दोनों संपत्तियों को बनाए रखने और पार्टी खर्च के लिए दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

Author February 11, 2018 23:23 pm
केरल में माकपा कार्यकर्ताओं ने बागी नेता की हत्‍या कर दी थी।

पश्चिम बंगाल के पूर्वी बर्दवान जिले में वित्तीय संकट से जूझ रही माकपा की एक स्थानीय कमेटी ने अपने खर्चे के लिए पार्टी कार्यालय की इमारत को किराए पर दे दिया है। पूर्वी बर्दवान जिला वाम मोर्चा शासन के दौरान पार्टी का गढ़ माना जाता था। माकपा के नेतृत्व वाला वाम मोर्चा 2011 में पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में सत्ता से बाहर हो गई।

इसके साथ ही राज्य में माकपा के 34 सालों के शासन का अंत हो गया। ऑसग्राम विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र के गुसकारा इलाके के माकपा नेता ने कहा, “हमारे पास दो कार्यालय एक-दूसरे से थोड़ी दूरी पर हैं। हमें दोनों संपत्तियों को बनाए रखने और पार्टी खर्च के लिए दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। इसी वजह से हमने सर्वसम्मति से कार्यालय की इमारत को 15,000 रुपये प्रति माह पर किराए पर देने का फैसला किया है।”

उन्होंने कहा कि स्थानीय समिति का संचालन क्षेत्रीय कार्यालय से होगा, जो स्थानीय समिति के कार्यालय से ज्यादा दूर नहीं है।इस इमारत -राबिन सेन भवन- का उद्घाटन एक मई, 1999 को किया गया था और इसके निर्माण के लिए धन स्थानीय समिति के सदस्यों ने एकत्रित किया था। किराए पर दी गई संपत्ति का अब पट्टेदार द्वारा नवीनीकरण कराया जा रहा है, जिसकी वजह से मार्क्‍सवादी चित्रों को माकपा कार्यालय में ले जाया जा रहा है।

ममता बनर्जी के तृणमूल कांग्रेस ने 2011 में जब सत्ता पर कब्जा किया था, तब वामपंथियों ने ऑसग्राम सीट बरकार रखी थी, लेकिन 2016 के चुनाव में तृणमूल ने यह सीट जीत ली।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App