ताज़ा खबर
 

कर्नाटक: विजयपुरा में मजदूर के घर से मिलीं 8 VVPAT, केस दर्ज

कर्नाटक पुलिस ने इस बात की जानकारी दी है कि इस मामले में केस दर्ज कर लिया गया है और आगे की जांच की जा रही है। पुलिस ने भी यह कहा है कि किसी भी VVPAT में बैटरी नहीं है।

मजदूरों के घर से मिले 8 VVPAT (फोटो सोर्स- एएनआई ट्विटर)

कर्नाटक में विधानसभा चुनाव के बाद सरकार बनाने को लेकर हुई उठा पटक के बाद अब VVPAT को लेकर नया मामला सामने आया है। दरअसल, बीजापुर जिले में मजदूरों के घर से 8 VVPAT के कवर्स पाए गए हैं। कर्नाटक चुनाव आयोग प्रमुख का कहना है कि मजदूरों का परिवार इन कवर्स का इस्तेमाल कपड़े रखने के लिए कर रहा था। चुनाव आयोग ने कहा, ‘बीजापुर जिले में मजदूरों के घर से VVPAT के 8 कवर्स बरामद किए गए हैं। मजदूर इसका इस्तेमाल कपड़े रखने के डिब्बे के तौर पर कर रहे थे। डीसी इस वक्त घटनास्थल पर है और इस मामले की आगे की जांच की जा रही है। वहां कोई भी मशीन बरामद नहीं की गई है।’ वहीं कर्नाटक पुलिस ने इस बात की जानकारी दी है कि इस मामले में केस दर्ज कर लिया गया है और आगे की जांच की जा रही है। पुलिस ने भी यह कहा है कि किसी भी VVPAT में बैटरी नहीं है।

बता दें कि कर्नाटक में हाल ही में चुनाव संपन्न हुए हैं। चुनाव में बीजेपी 104 सीट हासिल करके सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी, लेकिन बहुमत नहीं होने के कारण बीएस येदियुरप्पा को मुख्यमंत्री बनने के महज 55 घंटों के बाद ही इस्तीफा देना पड़ गया। बुधवार को जेडीएस और कांग्रेस मिलकर राज्य में सरकार बनाएंगे। जेडीएस के कुमारस्वामी सीएम पद की शपथ लेंगे। कांग्रेस ने 78 और जेडीएस ने 37 सीटों पर कब्जा किया है। चुनाव ऐलान के तुरंत बाद ही जेडीएस और कांग्रेस ने 117 विधायकों के समर्थन के साथ राज्यपाल वाजुभाई वाला के पास सरकार बनाने का दावा पेश किया था, वहीं बीजेपी की ओर से भी दावा पेश किया गया था।

राज्यपाल ने बीजेपी को सरकार बनाने के लिए न्योता दिया और 17 मई की सुबह येदियुरप्पा ने आनन-फानन में सीएम पद की शपथ ली। राज्यपाल ने बहुमत साबित करने के लिए 15 दिनों का वक्त दिया, जिसके बाद कांग्रेस ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया। कोर्ट ने इस मामले में सुनवाई के बाद फ्लोर टेस्ट के माध्यम से बहुमत सिद्ध करने के लिए 15 दिन के समय को घटाकर 26 घंटा कर दिया, जिसके बाद शनिवार (19 मई) को फ्लोर टेस्ट से पहले ही येदियुरप्पा ने इस्तीफा दे दिया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App