ताज़ा खबर
 

UP: मोदी नगर में मोमबत्ती फैक्ट्री में विस्फोट, 7 की मौत; कई जख्मी

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस फैक्ट्री में अब भी लगभग 20 लोग फंसे हुए हैं। अचानक हुए धमाके से आसपास के इलाके में लोगों में दहशत का माहौल है। धमाके इतना तेज था कि उसकी आवाज काफी दूर तक सुनाई दी।

उत्तर प्रदेश के मोदी नगर की एक पटाखा फैक्ट्री में विस्फोट हुआ है। (PC – ANI)

उत्तर प्रदेश के मोदी नगर की एक फैक्ट्री में विस्फोट होने से 7 लोगों की मौत हो गई है और 4 लोग बुरी तरह घायल हो गए हैं। इस बात की जानकारी गाजियाबाद जिला मजिस्ट्रेट अजय शंकर पांडे ने न्यूज़ एजेंसी एएनआई के माध्यम से दी है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस फैक्ट्री में अब भी लगभग 20 लोग फंसे हुए हैं। अचानक हुए धमाके से आसपास के इलाके में लोगों में दहशत का माहौल है। धमाका बहुत तेज था इसकी आवाज़ काफी दूर तक सुनाई दी।

इस मोमबत्ती फैक्ट्री में काम करने वालों में ज़्यादातर महिलाएं हैं। आग के चलते फैक्ट्री को बहुत नुकसान हुआ है वहीं इसमें झुलसने से 7 लोगों की दर्दनाक मौत हो गई है। जबकि 4 लोगों को की स्थिति गंभीर बताई जा रही हैं। मरने वालो में 6 महिला कर्मचारी और एक 16 साल का बच्चा है। रिपोर्ट्स के मुताबिक अबतक 10 लोगों को बाहर निकाला जा चुका है। फैक्ट्री में केक में लगाए जाने वाली फुलझड़ी बनाई जाती थी। कुछ रिपोर्ट्स में दावा किया गया है कि फैक्ट्री मालिक आसपास के घरों में कच्‍चा माल भिजवा कर पटाखे बनवाता था।

उत्तर प्रदेश सीएमओ ने बताया कि उ.प्र. CM ने गाजियाबाद के मोदीनगर के बखरवा गांव में मोमबत्ती कारखाने में आग लगने की घटना में DM एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को मौके पर पहुंचकर घटना के घायलों को तत्काल राहत पहुंचाने के निर्देश दिए हैं और घटनास्थल की जांच कर आज शाम तक रिपोर्ट प्रस्तुत करने को कहा है।

वहीं इलाके के चौकी प्रभारी को सस्पेंड कर दिया गया है। जिला मजिस्ट्रेट अजय शंकर पांडे का कहना है कि मामले की मजिस्ट्रियल जांच के आदेश दिए गए हैं। प्रत्येक मृतक के परिजन को 4 लाख रुपये की अनुग्रह राशि प्रदान की जाएगी। घायलों को नि: शुल्क उपचार और 50,000 रुपये की आर्थिक सहायता दी जाएगी। जिला मजिस्ट्रेट ने बताया “यहां प्रथम दृष्टया पहुंचने पर ये जानकारी मिली और हम लोग इस निष्कर्ष पर पहुंचे कि चौकी इंचार्ज की भूमिका बहुत नकारात्मक रही है और तत्काल प्रभाव से उनको निलंबित कर दिया गया है। पूरी घटना की मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए गए हैं।”

बताया जा रहा है कि फैक्ट्री अवैध तरीके से संचालित हो रही थी, जिसमें महिलाएं और बच्चे भी काम करते हैं। आसपास के लोगों ने बताया कि गांव में ही यह फैक्ट्री चल रही थी। स्थानीय लोग ही इस फैक्ट्री में आकर काम करते थे।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 एमपी: शिवराज को 72 दिन लगे मंत्रिमंडल विस्तार करने में, अब विभाग बांटने में छूट रहे पसीने, सिंधिया गुट ने बढ़ाया दबाव; 72 घंटे से बिन विभाग के मंत्री
2 ‘BJP को महंगाई डायन नजर आती थी, अब भौजाई नजर आती है’, तेजस्वी यादव का तेल की बढ़ती कीमतों पर हमला
3 ‘विकास दुबे और लल्लन वाजपेयी, एक ही सिक्के के दो पहलू’, दोनों बराबर बांटते थे उगाही, मृतक संतोष शुक्ला के भाई ने सुनाई तीन दशक की कहानी
ये पढ़ा क्या?
X