ताज़ा खबर
 

दिल्ली: आयकर विभाग के 60 अधिकारियों ने 16 जगहों पर मारे छापे, मंत्री के घर और परिसर भी शामिल

आयकर विभाग की टीमों ने दिल्ली के वसंत कुंज, डिफेंस कॉलोनी, पश्चिम विहार, नजफगढ़, लक्ष्मीनगर और गुरुग्राम के पालम विहार स्थित गहलोत के परिसरों पर एक साथ तलाशी ली।

इस दौरान कई दस्तावेज जब्त किए गए हैं।

आयकर विभाग ने बुधवार को दिल्ली सरकार में मंत्री कैलाश गहलोत के आवास समेत उनसे जुड़े 16 परिसरों पर छापे मारे। मंत्री गहलोत से जुड़ी दो कंपनियों के खिलाफ जारी कर चोरी की जांच के सिलसिले में छापेमारी की गई। दिल्ली और गुरुग्राम के विभिन्न इलाकों में 16 जगहों पर की गई छापेमारी में आयकर विभाग के 60 अधिकारी शामिल थे।
कैलाश गहलोग दिल्ली सरकार में परिवहन, कानून और राजस्व मंत्री हैं और दिल्ली की नजफगढ़ सीट से आप के विधायक हैं। इन्हें मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का बेहद करीबी माना जाता है। खबर लिखे जाने तक छापेमारी जारी रही।

आयकर विभाग की टीमों ने दिल्ली के वसंत कुंज, डिफेंस कॉलोनी, पश्चिम विहार, नजफगढ़, लक्ष्मीनगर और गुरुग्राम के पालम विहार स्थित गहलोत के परिसरों पर एक साथ तलाशी ली। वसंत कुंज में गहलोत का आवास है। इस दौरान कई दस्तावेज जब्त किए गए हैं। आयकर अधिकारियों के मुताबिक, उन दस्तावेजों की जांच के बाद आयकर चोरी के सही आंकड़े का पता चल जाएगा।

यह कार्रवाई दो कंपनियों- ब्रिस्क इंफ्रास्ट्रक्चर एंड डवलपर्स प्राइवेट लिमिटेड और कॉरपोरेट इंटरनेशनल फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड द्वारा की जा रही कर चोरी की जांच का हिस्सा बताई जा रही हैं। ये दोनों कंपनियां गहलोत के परिवार के सदस्यों के स्वामित्व में हैं और वे ही इन्हें संचालित कर रहे हैं। ब्रिस्क इंफ्रास्ट्रक्चर कंपनी जमीन-जायदाद के कारोबार से जुड़ी है, जबकि, दूसरी कंपनी गैर बैंकिंग फाइनेंस कंपनी (एनबीएफसी) है। आयकर सूत्रों के मुताबिक, इन कंपनियों ने कारोबार को छिपाया है और वास्तविक मुनाफे के बजाय कम मुनाफा दिखाकर आयकर की चोरी की है। नतीजतन, विभाग को इन कंपनियों की जांच शुरू करनी पड़ी।

छापेमारी की जानकारी होने के बाद सीएम केजरीवाल ने इसे लेकर ट्वीट किया। उन्होंने इसमें सीधे तौर नरेंद्र मोदी सरकार पर हमला बोला और जबरन आप के मंत्री को निशाना बनाने का आरोप लगाया। सीएम ने तंज कसते हुए पूछा- नीरव मोदी और विजय माल्या से दोस्ती और हम पर छापेमारी?

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App