ताज़ा खबर
 

सामूहिक विवाह समारोह में हुई 52 दिव्यांग जोड़ों की शादी, 32 साल से यूं समाज सेवा कर रहा है ये संगठन

दिव्यांग दुल्हनों को बग्घियों में बिठाकर बेदियों तक ले जाया गया। दिल्ली के राजौरी गार्डन में आयोजित इस विवाह समारोह में 52 बेदियां तैयार की गई थीं, जिनके माध्यम से विवाह संपन्न कराए गए।

दिल्ली में बग्घी में सवार दिव्यांग जोड़े (फोटोः @Pritgupta)

राजधानी दिल्ली में रविवार को एक 32वें दिव्यांग-निर्धन सामूहिक विवाह समारोह का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम में 52 दिव्यांग जोड़ों का विवाह करवाया गया। प्राप्त जानकारी के मुताबिक इस कार्यक्रम का आयोजन समाजसेवी संस्था नारायण सेवा संस्थान की तरफ से करवाया गया था। दिव्यांग दुल्हनों को बग्घियों में बिठाकर बेदियों तक ले जाया गया। दिल्ली के राजौरी गार्डन में आयोजित इस विवाह समारोह में 52 बेदियां तैयार की गई थीं, जिनके माध्यम से विवाह संपन्न कराए गए।

कार्यक्रम में देश के प्रसिद्ध धार्मिक स्थलों से पहुंचे धर्माचार्यों ने पूरे विधि विधान और रीति रिवाजों के साथ विवाह उत्सव को संपन्न कराया। यहां पर दुनियाभर से आए कई दिग्गजों ने नवविवाहित जोड़ों को अपना आशीर्वाद दिया। इस सामूहिक विवाह समारोह में लगभग 3000 मेहमानों ने शिरकत की। देश के विभिन्न राज्यों से चुने गए ये जोड़े अपने परिजनों के साथ इस दो दिवसीय विवाह समारोह में शामिल हुए। खाने-पीने रहने और आवागमन के लिए सभी सुविधाएं संस्थान की तरफ से जुटाई गई थीं।

दिव्यांग जोड़ों ने वैदिक मंत्रोच्चार के बीच जीवन भर एक-दूजे के साथ रहने की कसमें खाईं। दिव्यांगों ने भगवान को साक्षी मानकर अपने माता-पिता का आशीर्वाद लिया। नारायण सेवा संस्थान और दुनियाभर से आए लोगों ने जोड़ों को गृहस्थी के सभी साजो-सामान भी प्रदान किए गए। इसके अलावा वधू को श्रृंगार के साजो-सामान भी दिए गए। इस दौरान तीन दिव्यांगों को ट्राईसाइकिल, लगभग आधा दर्जन ईयर मशीन और कैलिपर्स भी दिए गए।

 

नारायण सेवा संस्थान के अध्यक्ष प्रशांत अग्रवाल ने इस सफल आयोजन की खुशी जाहिर करते हुए कहा कि नारायण सेवा संस्थान पिछले 18 वर्षों से दिव्यांगों का विवाह समारोह आयोजित कर रहा है। नारायण सेवा संस्थान ने अब तक 30 से अधिक सामूहिक विवाह कार्यक्रम सफलतापूर्वक आयोजित किए हैं। इस दौरान 1300 से अधिक जोड़ों को अपनी नई पारी शुरू करने में मदद की गई है। नारायण सेवा संस्थान स्किल डेवलपमेंट सेंटर भी संचालित करता है जहां फैशन डिजाइनिंग, सिलाई, मोबाइल रिपेयरिंग और कंप्यूटर लर्निंग ट्रेनिंग दिव्यांग युवाओं में काफी लोकप्रिय हैं।

Next Stories
1 Happy Maha Shivratri 2019: महाशिवरात्रि पर मुस्लिम समुदाय के लोग कांवड़ियों में बांट रहे दूध और फल, यूपी में दिखा सामाजिक सद्भाव
2 अडानी गैस को झटका: सीएनजी नहीं बेच पाएगी कंपनी, रेगुलेटर ने बतायी ये वजह
3 हिमाचल प्रदेशः 11 दिन पहले बर्फ में फंसे थे 5 जवान, अब तक सिर्फ एक शव बरामद
यह पढ़ा क्या?
X