ताज़ा खबर
 

प्रशांत किशोर के जरिए पंजाब जीतना चाहती है Congress, पर PK पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु में व्यस्त; संग काम करने के कम हैं चांस

कुछ दिन पहले मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अपने सहयोगी विधायकों से इस बारे में विचार विमर्श किया था। 2017 के पंजाब चुनावों में कांग्रेस के अभियान को सफलतापूर्वक रणनीतिक बनाने के लिए किशोर को काफी हद तक श्रेय दिया जाता है।

Author Translated By सिद्धार्थ राय नई दिल्ली | Updated: June 1, 2020 10:54 AM
prashant kishorपॉलिटिकल स्ट्रैटजिस्ट प्रशांत किशोर। (फोटो-पीटीआई)

राजनीतिक रणनीतिकार प्रशांत किशोर की रणनीति से 2017 के विधानसभा चुनाव में कैप्टन अमरिंदर सिंह राज्य में कांग्रेस की सरकार बनाने में सफल रहे थे। ऐसे में अमरिंदर सिंह 2022 में होने वाले विधानसभा चुनावों के लिए एक बार फिर किशोर को अपने खेमे में शामिल करना चाहते हैं। लेकिन एक राजनीतिक सूत्र ने बताया है कि 2022 के विधानसभा चुनावों के लिए किशोर पार्टी की प्रचार रणनीति तैयार करने के लिए पंजाब कांग्रेस के प्रस्ताव को लेने में अभी दिलचस्पी नहीं ले रहे हैं। कुछ दिन पहले मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अपने सहयोगी विधायकों से इस बारे में विचार विमर्श किया था। 2017 के पंजाब चुनावों में कांग्रेस के अभियान को सफलतापूर्वक रणनीतिक बनाने के लिए किशोर को काफी हद तक श्रेय दिया जाता है, जिन्होंने 117 सीटों वाली विधानसभा में 77 सीटों के साथ पार्टी को सत्ता में पहुंचा दिया।

किशोर के करीबी सूत्रों ने बुधवार को इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि वह पंजाब में दिलचस्पी नहीं दिखा रहे हैं। इस समय वे पश्चिम बंगाल और तमिलनाडु में बहुत व्यस्त हैं। सूत्र ने बताया कि “प्रशांत किशोर और सीएम ने हाल ही में इस मुद्दे पर 5-6 बार बात की है। अभी तक, उन्होंने नहीं कहा है। किशोर ने अमरिंदर से कहा कि उनकी क्षेत्रीय पार्टी नहीं है और किशोर फिर से कांग्रेस के लिए रणनीति तैयार करने में दिलचस्पी नहीं हैं। इसको लेकर सीएम ने उनसे कहा कि वह मैडम (AICC अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी) से बात करेंगे।”

सूत्र ने कहा, “प्रशांत किशोर पश्चिम बंगाल और तमिलनाडु में बहुत व्यस्त हैं। वह पंजाब के लिए उत्सुक नहीं है। उन्होंने 2017 के विधानसभा चुनाव के बाद एक बार भी राज्य का दौरा नहीं किया है। वह संपर्क में भी नहीं थे। उन्होंने किसी को फोन भी नहीं किया। हम देखेगें कि क्या होगा।”

कुछ दिनों पहले, अमरिंदर के राजनीतिक सचिव, कैप्टन संदीप संधू ने विधायकों को इस बात पर चर्चा करने के लिए बुलाया कि क्या वे इस बार फिर से चुनाव में प्रशांत किशोर को अपने साथ जोड़ना चाहते हैं। फोन कॉल ने सभी को आश्चर्यचकित कर दिया क्योंकि पिछली बार जब अमरिंदर ने किशोर को साइन किया था तो किसी से भी कोई चर्चा नहीं की थी। विधायकों को किशोर की भारतीय राजनीतिक कार्रवाई समिति (I-PAC) टीम के रसद के लिए भुगतान करना था और उन्होंने आपत्तियां उठाई थीं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories