ताज़ा खबर
 

सुप्रीम कोर्ट की रोक के बावजूद निकाला मुहर्रम का ताजिया, पुलिस से झड़प भी हुई; महिलाओं सहित 20 गिरफ्तार

लॉकडाउन का उल्लंघन कर बिना अनुमति ताजिए रखने, ढोल नगाड़े बजाने, जुलूस निकालने और मना करने पर पुलिस के साथ टकराव के आरोप में तीन महिलाओं सहित कुल 20 लोगों को गिरफ्तार किया है।

Author नई दिल्ली | Updated: August 31, 2020 3:17 PM
muahraam 2020तस्वीर का इस्तेमाल महज प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (Express photo: Shashi Ghosh)

सुप्रीम कोर्ट और यूपी सरकार की रोक के बावजूद मुहर्रम के त्योहार पर शनिवार व रविवार को लॉकडाउन का उल्लंघन कर बिना अनुमति ताजिए रखने, ढोल नगाड़े बजाने, ताजिया जुलूस निकालने और मना करने पर पुलिस के साथ टकराव के आरोप में तीन महिलाओं सहित कुल 20 लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस अधीक्षक (देहात) अशोक कुमार ने सोमवार को बताया कि रुपईडीहा थाना क्षेत्र स्थित नरैनापुर गांव और रूपईडीहा कस्बे के नहर पुलिया चौराहे पर मुहर्रम का जुलूस निकालने को आमादा लोगों और पुलिस के बीच रविवार को टकराव की स्थिति उत्पन्न हो गई। इन स्थानों पर कुछ लोग एकत्र होकर मुहर्रम का जुलूस निकालने की कोशिश में थे। पुलिस ने रोका तो अन्य लोगों को बुलाकर पुलिस पर दबाव बनाने की कोशिश की गई।

उन्होंने बताया कि इस पर पुलिस ने 12 लोगों के खिलाफ संक्रमण फैलाने, लोकसेवक को धमकाने, लॉकडाउन के उल्लंघन के आरोप और महामारी अधिनियम की सुसंगत धाराओं में मुकदमा दर्ज कर सभी को गिरफ्तार कर लिया है। कुमार ने बताया कि इसी तरह मुर्तिहा कोतवाली क्षेत्र के मधवापुर परसीपुरवा गांव में सार्वजनिक रूप से ताजिए रखकर अलम लगा दिया गया और भीड़ जुटना शुरू हो गई। पुलिस पहुंची तो ग्रामीणों ने महिलाओं को आगे कर पुलिस से बचने की कोशिश की। यहां लॉकडाउन उल्लंघन व महामारी अधिनियम की धाराओं में तीन महिलाओं सहित पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया।

Unlock 4.0 Guidelines

पुलिस सूत्रों ने बताया कि कोतवाली देहात इलाके के सरदारपुर बहादुरपुर गांव में रविवार को मुहर्रम पर लोग ढोल-नगाड़ा लेकर लोग जुलूस निकाल रहे थे। सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस टीम ने गांव से रिजवान, अफसर अली व रबी हक से पांच बड़े ढोल व नगाड़े जब्त किए गये हैं। इन तीनों को लॉकडाउन उल्लंघन तथा महामारी अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कर जेल भेजा गया है। सभी मामलों की सक्षम अधिकारियों द्वारा जांच कराई जा रही है। अन्य लोगों की संलिप्तता मिलने पर उनके खिलाफ भी मामले दर्ज किए जा सकते हैं।

अपर पुलिस अधीक्षक ने बताया कि कोविड-19 संक्रमण को लेकर राज्य सरकार द्वारा सार्वजनिक स्थलों पर गणेश पूजा पंडाल सजाने तथा मुहर्रम पर सार्वजनिक स्थानों पर ताजिया रखने तथा जुलूस और शोभा यात्रा निकालने पर रोक लगाई गई थी। इस संबंध में गणेश चतुर्थी के पूर्व से लेकर मुहर्रम के पहले तक शांति समितियों की बैठकों में तथा समय समय पर धर्मगुरूओं के माध्यम से दिशा निर्देश से अवगत कराते हुए लोगों को सार्वजनिक रूप से त्योहार नहीं मनाने की अपील की गई थी।

उन्होंने बताया कि शनिवार से ही प्रशासन तथा पुलिस के अधिकारी गश्त पर थे। कस्बों में फ्लैग मार्च किए गये थे। अधिकांश जगहों पर अकीदतमंदों ने घरों में ही त्यौहार की परंपराओं को निभाया है। कुछ ही स्थानों पर ऐसी घटनाएं हुई हैं, जिन पर कार्यवाही की गयी है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Pantha Encounter में देश के लिए शहीद हुए ASI बाबू राम, पार्थिव शरीर देख बेटा बोला- पिता पर है गर्व, मैं भी जाऊंगा सेना में
IPL 2020 LIVE
X