ताज़ा खबर
 

संघ की बैठक में केंद्र की नीतियों पर होगा मंथन

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की केंद्रीय समन्वय समिति की दो दिन की बैठक गुरूवार से उदयपुर में शुरू हो गई।

(File Photo)

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की केंद्रीय समन्वय समिति की दो दिन की बैठक गुरूवार से उदयपुर में शुरू हो गई। इस बैठक में देश के राजनीतिक हालातों के साथ ही केंद्र की मोदी सरकार की नीतियों पर भी मंथन होगा। बैठक में संघ प्रमुख मोहन भागवत के साथ ही संगठन से जुडे़ तमाम बडेÞ पदाधिकारी हिस्सा ले रहे हैं। भाजपा महासचिव राम माधव और संगठन महासचिव रामलाल भी बैठक में शामिल होंगे।
संघ की उदयपुर बैठक को राजनीतिक लिहाज से भी अहम माना जा रहा है। इसमें उत्तर प्रदेश और अन्य राज्यों के आने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर भी चर्चा होगी। इसके साथ ही मोदी सरकार के अब तक के कामकाज पर संघ के विभिन्न संगठनों से राय ली जाएगी। संघ के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख मनमोहन वैद्य ने बताया कि इसमें साल भर के कामकाज का आकलन किया जाएगा और आने वाले वर्ष के कार्यों की रूपरेखा तय की जाएगी। उन्होंने गांधीजी की हत्या में संघ का हाथ होने के कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के आरोपों पर कहा कि अभी तक किसी भी अदालत ने इस तरह का कोई निर्णय ही नहीं दिया। संघ को इस तरह के आरोपों के लिए कोई सफाई नहीं देनी है। ऐसे आरोप लगाने वालों को अदालती प्रक्रिया में भरोसा रखना चाहिए। उदयपुर की बैठक में संघ के आनुषांगिक संगठनों की रिपोर्टो पर भी विचार होगा।

सूत्रों का कहना है कि उत्तर प्रदेश और पंजाब जैसे अहम प्रदेशों के चुनाव से पहले हो रही संघ की इस बैठक का विशेष महत्व है। इस बैठक में संभावित तौर पर गौरक्षा, दलित प्रकरण, प्रधानमंत्री के बयान, विदेश नीति में हो रहे बदलाव, आतंकवाद, पाकिस्तान और चीन से भारत के रिश्तों को लेकर भी मंथन के आसार है। बैठक में देश हित में आगामी रणनीति तय कर अगले साल का एजंडा भी तय किया जाएगा। बैठक में भाजपा के पदाधिकारी राम माधव और रामलाल भी अपनी राय रखेंगे और संघ से दिशा निर्देश भी हासिल करेंगे।
भाजपा के पदाधिकारी संघ में किए गए फैसलों को राजनीतिक तौर पर अपनी बात सरकार और पार्टी में आला स्तर तक पहुंचाने का काम करेंगे। बैठक शुक्रवार को भी होगी। बैठक स्थल पर संघ पदाधिकारियों के अलावा किसी को भी जाने की इजाजत नहीं है। इसे पूरी तरह से गोपनीय रखा गया है।

संघ प्रमुख मोहन भागवत तीन दिन पहले ही बैठक के लिए उदयपुर पहुंच गए थे। बुधवार तक बैठक में हिस्सा लेने वाले तमाम पदाधिकारी भी उदयपुर आ गए। संघ सूत्रों का कहना है कि समन्वय बैठक से पहले भागवत ने प्रमुख पदाधिकारियों से अलग से बैठक कर कई मसलों पर विचार किया। उदयपुर के प्रताप गौरव केंद्र में हो रही बैठक से पहले भागवत ने सर कार्यवाह सुरेश भैय्याजी जोशी, सह सर क ार्यवाह सुरेश सोनी, दत्तात्रेय होसबोले, डा कृष्णगोपाल और वी भागय्या के साथ बैठक की। संघ के ये सभी वरिष्ठ पदाधिकारी पूरे वर्ष देश के अलग अलग इलाकों में घूम कर हालातों का पता लगाते हैं। इसके बाद सभी सामूहिक तौर पर बैठ कर उस पर चर्चा करते हैं। इन पदाधिकारियों की राय को संघ में खासा महत्त्व दिया जाता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App